Home » इंडिया » In Journalist Ram Chandra Murder Sentence On Gurmeet Ram Rahim Via Video Conference today
 

पत्रकार हत्याकांड: आज होगा आरोपी राम रहीम की सजा का ऐलान, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होगी पेशी

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 January 2019, 11:03 IST

पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड में डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख राम रहीम सहित चार दोषियों को आज सजा सुनाई जाएगी लेकिन ये पेशी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा होगी. करीब 16 साल बाद इस हत्याकांड में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने 11 जनवरी को राम रहीम सहित चार लोगों को दोषी करार दिया. प्रदेश में सुरक्षा और कानून व्यवस्था को मद्देनजर रखते हुए राम रहीम की सजा का ऐलान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होगी. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सजा के ऐलान को लेकर हरियाणा सरकार ने याचिका लगाई थी और इसे मंजूर करते हुए बुधवार को सीबीआई की विशेष अदालत ने वीसी के जरिए राम रहीम को पेश करने के आदेश जारी कर दिए.

 

राम रहीम के अलावा बाकि सभी दोषियों कृष्ण लाल, निर्मल सिंह और कुलदीप सिंह को अंबाला सेंट्रल जेल में सजा सुनाई जाएगी. तो वहीं राम रहीम को सुनारिया जेल में ही सजा सुनाई जाएगी. चारों की IPC की धारा 302 और IPC की धारा 120बी के तहत दोषी करार दिया गया है और आरोपी कृष्ण लाल को 1959 आर्म्स एक्ट के सेक्शन 29 के तहत भी दोषी करार दिया गया है. आरोपी निर्मल सिंह को 1959 आर्म्स एक्ट के सेक्शन 25 के तहत भी दोषी करार दिया गया है. 

ड्राइवर खट्टा सिंह की गवाही-

राम रहीन के पूर्व ड्राइवर खट्टा सिंह ने अपनी गवाही में कहा था कि पत्रकार छत्रपति की हत्या करने के लिए बाबा राम रहीम ने कृष्ण लाल, निर्मल सिंह और कुलदीप सिंह को उन्हें जान से मारने के आदेश दिए थे. जब राम रहीम 23 2002 अक्टूबर को जालंधर के एक सत्संग से सिरसा वापस पहुंचे थे तो उसे कृष्ण ने एक अखबार दिया. जिसमें साध्वियों के यौन शोषण को लेकर खबर छपी हुई थी औऱ खबर पढ़ते ही राम रहीन बौखला गया और पत्रकार को मारने के आदेश दे दिए. इसके बाद 24 अक्टूबर 2002 को पत्रकार छत्रपति को उनके घर के बाहर ही गोली मारकर हत्या कर दी गई.

क्या है पूरा मामला-

अक्टूबर 2002 में स्थानीय पत्रकार रामचंद्र छत्रपति को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. मृतक 'पूरा सच' नामक अखबार प्रकाशित करते थे और उनके अखबार में ये बताया गया था कि कैसे राम रहीम सिरसा स्थित डेरा मुख्यालय में यौन शोषण करता था. उन्होंने इससे जुड़ी कई खबरें प्रकाशित की थीं. साल 2003 में ये केस दर्ज किया गया था और इसे 2006 में सीबीआई को सौंप दिया गया था. इस मामले में सीबीआई का फैसला 11 जनवरी को आ गया था और इस केस की सजा का ऐलान आज 17 जनवरी को होगा.

ये भी पढ़ें- CBI डायरेक्टर पद से दोबारा हटाए जाने पर आलोक वर्मा ने फायर ब्रिगेड के DG पद से भी छोड़ी नौकरी

First published: 17 January 2019, 10:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी