Home » इंडिया » in mp one school running without teacher
 

मध्य प्रदेश के झाबुआ में बिना टीचर के चल रहा है एक स्कूल

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:48 IST
(एजेंसी)

मध्य प्रदेश एक ऐसा प्रदेश जहां शिक्षा के क्षेत्र में हुए व्यापम घोटाले ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था. जहां व्यापम में सूबे के कई नेता और मंत्रियों के मालामाल होने का अंदेशा जताया जाता है, उसी मध्य प्रदेश में शिक्षा से जुड़ी एक और त्रासदी सामने आई है.

प्रदेश के झाबुआ जिले में एक ऐसा भी स्कूल है, जहां पढ़ने वाली छात्राएं तो हैं, लेकिन शिक्षक नहीं हैं. मीडिया रिपोर्ट में यह बात तब सामने आई, जब नौवीं क्लास की एक आदिवासी लड़की जिलाधिकारी दफ्तर में रोने लगी. उसने बताया कि उसकी परीक्षा आने वाली है और उसे पढ़ाने के लिए स्कूल में कोई शिक्षक ही नहीं है.

इस बात की शिकायत करने के लिए नौवीं क्लास में पढ़ने वाली सविता डामोर के साथ कई लड़कियां झाबुआ जिला मुख्यालय से 80 किमी दूर अमरगढ के हाईस्कूल से जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचीं. इस संबंध में सविता ने बताया कि हम कैसे पढ़ें, जब शिक्षक ही नहीं हैं. स्कूल में केवल एक शिक्षक था और उसे भी हटा दिया.

सविता के साथ आई एक अन्य छात्रा अनिता मुनिया ने बताया, "हमारे स्कूल में टीचर नहीं है, हमने जिले के सीईओ से भी इस बात की शिकायत की थी, लेकिन कुछ नहीं हुआ. इसलिए हमें इतनी दूर झाबुआ आना पड़ा."

ये छात्राएं बीते एक महीने से शिक्षक की मांग को लेकर पंचायत के सीईओ से लेकर बीईओ तक गुहार लगा चुकी हैं, लेकिन शिक्षा विभाग अब तक उन्हें एक शिक्षक नहीं दे पाया है.

इस मामले में आदिवासी विकास विभाग की सहायक आयुक्त शकुंतला डामोर का कहना है कि 29 टीचरों के अटैचमेंट खत्म करके उनको मूल संस्था में भेज दिया गया है. अगर बच्चों की बात मानेंगे तो ग्रामीण स्कूल जो खाली हैं, वहां पर टीचर की व्यवस्था नहीं कर पायेंगे.

First published: 12 August 2016, 12:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी