Home » इंडिया » in the pan card form the separate columns for transgenders, CBT Took the decision
 

ट्रांसजेंडरों के लिए सौगात, PAN CARD के फॉर्म में अलग से होगा कॉलम

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 April 2018, 19:30 IST

लंबे समय से चली आ रही ट्रांसजेंडरों की परेशानी को देखते हुए सरकार ने आखिरकार अब फैसला ले ही लिया. केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने एक अधिसूचना जारी कर पैन कार्ड आवेदन के फॉर्म में एक नया टिक बॉक्स बनाया है. यह टिक बॉक्स बोर्ड ने ट्रांसजेंडरों की परेशानी को देखते हुए बनाया है. इस टिक बॉक्स के बाद अब ट्रांसजेंडर पैन कार्ड बनवा सकेंगे.

बता दें कि सरकार ने आयकर नियमों को संशोधित करते हुए ट्रांसजेंडरों की पहचान सुनिश्चित करने के लिए पैन कार्ड फॉर्म में उनके लिए स्वतंत्र लिंग का कॉलम बनाया है. इससे पहले पैन कार्ड के आवेदन फॉर्म में लिंग के चुनाव के लिए केवल पुरुष और महिला श्रेणी का ही विकल्प होता था.

सोमवार को जारी अधिसूचना के अनुसार आयकर कानून की धारा 139 ए और 295 को संशोधित किया गया है. यह समस्या तब बढ़ी जब सरकार ने पेन कार्ड से आधार लिंक कराने के आदेश दिए थे. वहीं बता दें कि हाल ही में सीबीडीटी ने इन दोनों मुख्य डॉक्युमेंट को लिंक करने की तारीफ 30 जून निर्धारित की थी.

दरअसल, आधार कार्ड में तो तीसरी लिंग श्रेणी थी लेकिन पेन कार्ड में नहीं थी, जिसके कारण ट्रांसजेंडर अपने आधार पर अपने पैन को जोड़ने में सक्षम नहीं थे. इस मामले में एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस संबंध में फैसला सीबीडीटी को मिले कुछ सुझावों को ध्यान में रखते हुए लिया गया है.

बता दें कि  पैन 10 अंकों की एक विशेष संख्या होती है जो आयकर विभाग व्यक्तियों और इकाइयों को आवंटित करता है. यह आयकर संबंधी सभी लेनदेन में महत्वपूर्ण होता है. अब सरकार ने इनकम टैक्स रिटर्न भरने के लिए आधार भी जरूरी कर दिया है. ताजा आंकड़ों के मुताबिक 5 मार्च तक कुल 33 करोड़ पैन में से 16.65 करोड़ आधार से लिंक हो चुके हैं.

First published: 10 April 2018, 19:30 IST
 
अगली कहानी