Home » इंडिया » In the supervision of NSA Doval, the middleman Michelle planning come to India
 

अगस्ता वेस्टलैंड: NSA डोभाल की देखरेख में बिचौलिए मिशेल को ऐसे लाया गया भारत

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 December 2018, 10:22 IST

3,600 करोड़ रुपये के अगस्टा वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर सौदे में कथित मध्यस्थ मिशेल का प्रत्यर्पण करने में सीबीआई ने सफलता हासिल की है. एक रिपोर्ट के अनुसार सीबीआई प्रवक्ता के मुताबिक इस योजना का कोड नेम 'यूनिकॉर्न' रखा गया था. 57 वर्षीय ब्रिटिश नागरिक के कल अदालत में पेश होने की उम्मीद है.

सीबीआई ने कहा, "सीबीआई में संयुक्त निदेशक ए साईं मनोहर की अगुवाई वाली एक टीम दुबई में इस उद्देश्य के लिए गई थी.'' एजेंसी प्रवक्ता ने कहा," राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल के मार्गदर्शन में पूरे ऑपरेशन को प्रभारी निदेशक सीबीआई एम नागेश्वर राव द्वारा समन्वयित किया गया था.

 

संयोग से सर्वोच्च न्यायालय बुधवार को सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा के मामले में सुनवाई कर रहा है.
मिशेल उन कथित मध्यस्थों में से एक थे. जांचकर्ताओं ने दावा किया था कि इतालवी फर्म फिनमेक्निकिका की ब्रिटिश शाखा अगस्टा वेस्टलैंड के पक्ष में अनुबंध करने के लिए अधिकारियों और राजनेताओं को रिश्वत दी गई.

इस मामले में सीबीआई ने प्रारंभिक जांच के बाद 14 मार्च, 2013 को प्राथमिकी दर्ज की थी. चार कंपनियों के अलावा पूर्व आईएएफ प्रमुख एस पी त्यागी और 12 अन्य पर प्राथमिकी दर्ज की गई थी. इन व्यक्तियों में त्यागी परिवार और तीन बिचौलियों के सदस्य शामिल थे. मिशेल, कार्लो गेरोसा और गिडो हैस्के की प्रवर्तन निदेशालय ने मनी लॉन्ड्रिंग अधिनियम के तहत जांच शुरू की.

First published: 5 December 2018, 10:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी