Home » इंडिया » in up: ballia cow trafficking one men died
 

यूपी: बलिया में 'गो तस्करी' के नाम पर बवाल, हिंसा में भाजपा कार्यकर्ता की मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 August 2016, 13:38 IST
(एजेंसी)

उत्तर प्रदेश में बलिया जिले के नरही क्षेत्र में शुक्रवार देर रात कथित 'गो तस्करी' के मामले में गिरफ्तारी से भड़के बीजेपी एमएलए उपेंद्र तिवारी के समर्थकों और पुलिस के बीच झड़प में कथित तौर पर बीजेपी के एक कार्यकर्ता के मारे जाने की खबर है.

इस मामले में पुलिस अधीक्षक मनोज झा ने बताया कि नरही थाना क्षेत्र में पशु तस्करी के मामले में पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार किया था. पुलिस की इस कार्रवाई के विरोध में बीजेपी एमएलए उपेंद्र तिवारी अपने समर्थकों के साथ नरही थाने के सामने धरना-प्रदर्शन करने लगे.

थाने के सामने भाजपा का धरना

इस मामले में विधायक का आरोप था कि पुलिस ने फंसाने की मंशा से गलत लोगों की गिरफ्तारी की है. उन्होंने पुलिस पर पकड़े गए लोगों को प्रताड़ित करने का भी आरोप लगाया.

उन्होंने बताया कि पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने धरना दे रहे बीजेपी एमएलए से धरना खत्म करके थाने से वापस चले जाने को कहा, लेकिन उन्होंने पुलिस की बात को खारिज कर दिया और वहीं बैठे रहे.

शुक्रवार रात 10 बजे पुलिस ने बलपूर्वक धरना हटाने का प्रयास किया, जिसके बाद स्थिति खराब हो गई और बीजेपी कार्यकर्ता हिंसा पर उतारू हो गए. कार्यकर्ताओं ने इस दौरान पुलिस बल पर पथराव शुरू कर दिया.

बलिया के एसपी मनोज झा ने बताया कि स्थिति को संभालने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और रबर की गोलियां चलाईं.

लाठीचार्ज-फायरिंग का आरोप

वहीं पुलिस के बयान के विपरीत बलिया बीजेपी के जिलाध्यक्ष विनोद दुबे ने आरोप लगाया कि पुलिस ने बीजेपी कार्यकर्ताओं पर जमकर लाठीचार्ज किया और गोलियां चलायीं. इस दौरान गोली लगने से बीजेपी कार्यकर्ता विनोद राय की मौत हो गयी, जबकि 50 से ज्यादा लोग घायल हो गए.

वहीं पुलिस अधीक्षक का कहना है कि बीजेपी कार्यकर्ता की मौत पुलिस की गोली से नहीं हुई, क्योंकि पुलिस ने कोई फायरिंग ही नहीं की. उन्होंने कहा कि बीजेपी कार्यकर्ता की मौत कैसे हुई, यह तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर ही साफ हो पाएगा.

उन्होंने बताया कि पुलिस ने इस मामले में नरही थाने में बीजेपी एमएलए उपेन्द्र तिवारी सहित 35 नामजद और 300 अज्ञात लोगों के खिलाफ भारतीय दण्ड संहिता की धाराओं 147, 148, 149, 307, 353, 336 और 7 आपराधिक कानून संशोधन अधिनियम के तहत केस दर्ज करते हुए छह लोगों को गिरफ्तार किया है.

भाजपा विधायक उपेंद्र तिवारी फरार

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि केस दर्ज होने के बाद एमएलए उपेन्द्र तिवारी फरार हैं. वहीं, बीजेपी जिलाध्यक्ष दुबे का कहना है कि एमएलए तिवारी लाठीचार्ज में गम्भीर रुप से घायल हो गए हैं और अस्पताल में इलाज करा रहे हैं.

इस बीच प्रशासन ने घटना के मद्देनजर जिले में पुलिस के अलावा चार कंपनी पीएसी, 500 पुलिस कांस्टेबल, एक अपर पुलिस अधीक्षक और छह पुलिस उपाधीक्षकों को तैनात किया गया है.

घटना के बाद आजमगढ रेंज के डीआईजी धर्मवीर यादव शुक्रवार रात बलिया पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया. डीआईजी धर्मवीर यादव ने बताया कि घटना की मजिस्ट्रेट जांच होगी और अगर पुलिस की गलती सामने आई, तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी.

First published: 13 August 2016, 13:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी