Home » इंडिया » in up: former bsp mp narendra kashyap distribute 100 rs note to constable
 

वीडियो: खाकी को खादी ने रिश्वत खिलाई, जब पूर्व बीएसपी सांसद की हुई रिहाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 July 2016, 14:21 IST
(कैच)

बीएसपी के पूर्व राज्यसभा सांसद नरेंद्र कश्यप दहेज हत्या के केस में गाजियाबाद की डासना जेल से रिहा हो गए. इस दौरान सिस्टम को शर्मसार करने वाली तस्वीरें सामने आईं. नरेंद्र कश्यप जेल से जैसे ही बाहर निकले, उनके एक समर्थक ने वहां खड़े यूपी पुलिस के सिपाहियों को 100-100 रुपये के नोट बांटने शुरू कर दिए.

नोट बांटने की यह घटना एक शख्स ने कैमरे में कैद कर ली. इस वीडियो को आने के बाद कहा जा रहा है कि नरेंद्र कश्यप के समर्थकों ने वहां खड़े सिपाहियों को यह नोट इसलिए बांटे, क्योंकि उन्होंने कथित तौर पर जेल में नेता जी की काफी आवभगत की थी.

आरोपी दो कांस्टेबल सस्पेंड

वीडियो में दिख रहा है कि नेताजी के जेल से बाहर आते ही उनके समर्थक उन्हें बुके देकर स्वागत कर रहा है और एक दूसरा समर्थक जेल के बाहर तैनात पुलिस सिपाहियों को 100-100 रुपये के नोट बांट रहा है.

वीडियो के सामने आने के बाद शर्मसार हुई यूपी पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने आनन-फानन में खलील अहमद और बनवारी लाल नाम के दो सिपाहियों को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया.

चार महीने से जेल में थे बंद

नरेंद्र कश्यप दहेज हत्याकांड में पिछले 4 महीने से गाजियाबाद के डासना जेल में बंद थे. इलाहाबाद हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बाद शनिवार की शाम 5 बजकर 45 मिनट पर उन्हें जेल से रिहा किया गया.

गौरतलब है कि नरेंद्र कश्यप 1998 से 2010 तक यूपी विधान परिषद के सदस्य रहे. मायावती ने उन्हें 2010 में राज्यसभा सांसद बनाया था. पूर्व सांसद नरेंद्र कश्यप पर बहू की हत्या के बाद दहेज हत्या का केस दर्ज किया गया था.

इस मामले में इनकी पत्नी देवेंद्री, बेटे सागर और सिद्धार्थ और दो बेटियां भी आरोपी हैं. इन पर भारतीय दंड संहिता की धारा 304 बी और 398-ए के तहत केस दर्ज किया गया है.

पूर्व सांसद की बहू हिमांशी की घर के बाथरूम में खून से लथपथ बॉडी मिली थी. हिमांशी के पास से रिवाॅल्वर भी बरामद हुई थी, जिससे पहले इसे सुसाइड केस माना जा रहा था.

वहीं दूसरी ओर बहू के घर वालों ने पूर्व सांसद के परिवार पर हत्या का आरोप लगाया था. हिमांशी के पिता हीरालाल कश्यप ने सांसद के परिवार पर आरोप लगाते हुए कहा था, "मेरी बेटी को गोली मारी गई है."

हिमांशी के पिता ने उस समय कहा था, "पिछले महीने 25 मार्च को बेटी घर आई थी, तब उसने बताया था कि दहेज की मांग को लेकर पति सागर अक्सर उसे पीटता है."

नरेंद्र कश्यप के बेटे सागर की शादी हिमांशी से तीन साल पहले हुई थी. दोनों का एक बेटा भी है. हिमांशी का पति सागर पेशे से डॉक्टर है. हिमांशी के पिता हीरालाल कश्यप भी मायावती की बसपा सरकार में मंत्री रह चुके हैं. इस मामले में बीएसपी ने दोनों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की थी.

First published: 18 July 2016, 14:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी