Home » इंडिया » in uttarakhand due to heavy rain 30 people dead
 

उत्तराखंड में आसमानी आफत, बारिश और बादल फटने से 30 की मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 July 2016, 14:37 IST
(एएनआई)

उत्तराखंड एक बार फिर कुदरत के कहर से जूझ रहा है. तेज बारिश और सैलाब से कई जिलों में हालात बिगड़ गए हैं. पिथौरागढ़ और चमोली में भारी बारिश और बादल फटने से 30 लोगों की मौत हो चुकी है.

मूसलाधार बारिश के चलते ऋषिकेश-बद्रीनाथ मार्ग पर तोता घाटी के पास नेशनल हाईवे पर चट्टान आ गिरी, जिससे हाईवे बंद हो गया. इस बीच मौसम विभाग ने भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है.

नदियां उफान पर

तीन साल पहले जून 2013 में उत्तराखंड के इतिहास में सबसे बड़ी प्राकृतिक आपदा आई थी. मानसून के आते ही उत्तराखंड में आफतों का दौर शुरू हो गया.

राज्य की ज्यादातर नदियां उफान पर हैं. बागेश्वर में सरयू और गोमती का जलस्तर काफी बढ़ गया है. नैनीताल में रात से रुक-रुककर बारिश हो रही है. सड़कों के क्षतिग्रस्त होने की वजह से राहत एवं बचाव के काम में बाधा आ रही है. कई गांवों का सड़क संपर्क टूट गया है.

पिथौरागढ़-चमोली में तबाही

पिथौरागढ़ के डीडीहाट में सबसे ज्यादा पांच लोग मारे गए हैं, जबकि नौलाड़ा में एक मकान पहाड़ी से आए मलबे में दब गया. इससे एक ही एक ही परिवार के तीन सदस्य दब गए. वहीं बादल फटने की घटनाओं के बाद चमोली में अलकनंदा नदी खतरे के निशान से काफी ऊपर बढ़ गई है.

वहीं बस्तड़ी में मलबे में दबे चार लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है. सिंगाली, दाफिला, बस्तड़ी और नौलाड़ा क्षेत्र में बादल फटने से जमीन से पानी निकल रहा है. मलबे में कितने और लोग दबे हैं, इसकी वास्तविक संख्या का पता नहीं चल सका है.

ऋषिकेश-बद्रीनाथ हाईवे बंद

वहीं ऋषिकेश-बद्रीनाथ मार्ग पर तोता घाटी के निकट हाईवे पर सुबह करीब 4 बजे चट्टान आ गिरी. इससे यह मार्ग बंद हो गया. फिलहाल चट्टान को हटाने का काम जारी है.

प्रभारी थानाध्यक्ष देवप्रयाग हीरामणि पोखरिया ने बताया कि क्षेत्र में रात से ही भारी बारिश जारी है. जेसीबी की मदद से मार्ग को दुरुस्त करने का काम किया जा रहा है. फिलहाल मार्ग बंद होने से दोनों ओर लंबा जाम लग गया है. 

इस बीच उत्तराखंड के हालात पर केंद्र की भी नजर है. केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि उत्तराखंड में जिन इलाकों में बादल फटने की घटनाएं हुई हैं, वहां एनडीआरएफ की टीमों को भेजा गया है. इसके अलावा एनडीआरएफ की अतिरिक्त टीमों को अलर्ट पर रखा गया है.

First published: 1 July 2016, 14:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी