Home » इंडिया » Independence day 2019 president ram nath kovind addresses nation on evening before independence day
 

राष्ट्रपति कोविंद का देश के नाम संबोधन, 'अनुच्छेद 370 हटने से कश्मीरियों की जिंदगी में आएगा बदलाव'

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 August 2019, 20:49 IST

स्‍वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश को संबोधित किया. राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में कहा, "मेरे प्यारे देशवासियो, कल हमारी आज़ादी के 72 वर्ष पूरे हो रहे हैं. कल हम अपनी स्वाधीनता की वर्षगांठ मनाएंगे. राष्ट्र-गौरव के इस अवसर पर मैं आप सभी देशवासियों को बधाई देता हूं. यह स्वाधीनता दिवस भारत-माता की सभी संतानों के लिए बेहद खुशी का दिन है, चाहे वे देश में हों या विदेश में हो.”

राष्ट्रपति ने कहा कि, "हम अपने उन असंख्य स्वतन्त्रता सेनानियों और क्रांतिकारियों को कृतज्ञता के साथ याद करते हैं, जिन्होंने हमें आज़ादी दिलाने के लिए संघर्ष, त्या‍ग और बलिदान के महान आदर्श प्रस्तुत किए.”

उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि 2 अक्टूबर को हम राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाएंगे. गांधीजी, हमारे स्वतंत्रता संग्राम के महानायक थे. वे समाज को हर प्रकार के अन्याय से मुक्त कराने के प्रयासों में हमारे मार्गदर्शक भी थे. गांधीजी का मार्गदर्शन आज भी उतना ही प्रासंगिक है.

राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि, "उन्होंने हमारी आज की गंभीर चुनौतियों का अनुमान पहले ही कर लिया था.गांधीजी मानते थे कि हमें प्रकृति के संसाधनों का उपयोग विवेक के साथ करना चाहिए ताकि विकास और प्रकृति का संतुलन हमेशा बना रहे.

कोविंद ने कहा कि, वर्तमान में चल रहे हमारे अनेक प्रयास गांधीजी के विचारों को ही यथार्थ रूप देते हैं. अनेक कल्याणकारी कार्यक्रमों के माध्यम से हमारे देशवासियों का जीवन बेहतर बनाया जा रहा है. सौर ऊर्जा के उपयोग को बढ़ाने पर विशेष ज़ोर देना भी गांधीजी की सोच के अनुरूप है.

इसे साथ राष्ट्रपति कोविंद ने हाल ही में जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बारे में कहा, उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 हटने से वहां के लोगों के लिए फायदेमंद साबित होगा. उन्होंने कहा कि, "मुझे विश्वास है कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लिए हाल ही में किए गए बदलावों से वहां के निवासी बहुत अधिक लाभान्वित होंगे. सरकार, लोगों की आशाओं-आकांक्षाओं को पूरा करने में उनकी सहायता के लिए बेहतर बुनियादी सुविधाएं और सामर्थ्य उन्हें उपलब्ध करा रही है.” 

इसी के साथ राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि मैं आप सभी को स्वाधीनता दिवस की अग्रिम शुभकामनाएं देता हूं. उन्होंने कहा कि मेरी कामना है कि हमारी समावेशी संस्कृति, हमारे आदर्श, हमारी करुणा, हमारी जिज्ञासा और हमारा भाई-चारा सदैव बना रहे और हम सभी, इन जीवन-मूल्यों की छाया में आगे बढ़ते रहें. हमारी संस्कृति की यह विशेषता है कि हम सब प्रकृति के लिए और सभी जीवों के लिए प्रेम और करुणा का भाव रखते हैं. पूरी दुनिया के जंगली बाघों की तीन-चौथाई आबादी को हमने सुरक्षित बसेरा दिया है.

अपने संबोधन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि, मुझे विश्वास है कि समाज के अंतिम व्यक्ति के लिए भारत, अपनी संवेदनशीलता बनाए रखेगा. भारत, अपने आदर्शों पर अटल रहेगा. भारत अपने जीवन मूल्यों को संजोकर रखेगा और साहस की परंपरा को आगे बढ़ाएगा.

आर्टिकल 370: पूर्व IAS शाह फैसल को हिरासत में लेने के बाद वापस कश्मीर भेजा गया

First published: 14 August 2019, 20:49 IST
 
अगली कहानी