Home » इंडिया » India and Pakistan will together go to WTO for sugarcane farmers against Brazil and Australia
 

इस बड़े मामले में साथ आए भारत और पाकिस्तान WTO में एकजुट हो रखेंगे अपनी बात

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 September 2018, 9:28 IST
(File Photo)

भारत और पाकिस्तान के बीच आपसी मतभेद वैश्विक स्तर पर हमेशा देखने को मिलता रहा है. इस बार गन्ना किसानों के मुद्दे पर भारत और पाकिस्तान एकजुट होकर सामने आए हैं. ब्राजील और ऑस्ट्रेलिया ने आरोप लगाया है कि भारत और पाकिस्तान के कारण ही चीनी कारोबार में मंदी आ गई है. ब्राजील और ऑस्ट्रेलिया का आरोप है कि भारत और पाकिस्तान अपने यहां के गन्ना किसानों को गन्ना बुआई के लिए सब्सिडी देते हैं. इसी वजह से विश्व स्तर पर चीनी कारोबार में मंदी जैसे हालत पैदा हो गए हैं.

इसके खिलाफ ब्राजील और ऑस्ट्रेलिया वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन WTO जाने की तैयारी में हैं. इन दोनों देशों का आरोप है कि भारत और पाकिस्तान में चीनी का उत्पादन इतना ज्यादा बढ़ा दिया है कि वैश्विक स्तर पर चीनी की कीमत बहुत कम हो गयी है.

भारत और पाकिस्तान दोनों देशों के चीनी उत्पाद को मिला दिया जाए तो ये इतना अधिक है कि डिमांड एंड सप्लाई के मुताबिक़ इससे वैश्विक स्तर पर चीनी के दाम ज़मीन पर आ गए हैं. भारत और पाकिस्तान गन्ना किसानों को उनकी पैदावार के लिए उचित मूल्य दिलाने के लिए संघर्षरत हैं.

गौरतलब है कि इस समय ब्राजील दुनिया में सबसे ज्यादा गन्ना उत्पादन करता है. ब्राजील दुनिया का सबसे बड़ा चीनी निर्यातक देश भी है. लेकिन वैश्विक स्तर पर देखें तो अगर पाकिस्तान और भारत का गन्ना उत्पादन इसी तरह चलता रहा तो भारत दुनिया का सबसे बड़ा निर्यातक बन जायेगा.

 

ब्राजील के ट्रेड मंत्री साइमन बर्मिंघम ने राइटर के हवाले से कहा, ''भारत और पाकिस्तान की सरकार द्वारा दी जा रही सब्सिडी के चलते ग्लोबल मार्केट में चीनी की कीमतों में बड़ी गिरावट दर्ज हुई है. वैश्विक बाजार चीनी की अत्यधिक सप्लाई से भरा है, जिसके चलते जहां भारत और पाकिस्तान से निर्यात हो रही सस्ती दर पर चीनी की मांग है और ब्राजील और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों को नुकसान उठाना पड़ा रहा है.''

राइटर की रिपोर्ट के अनुसार न्यूयॉर्क में रॉ शुगर का फ्यूचर ट्रेड 10 साल के निचले स्तर पर 9.91 सेंट पर है. और इसका आरोप भारत और पाकिस्तान पर है कि इन दोनों देशों में में घरेलू उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए लगातार सब्सिडी दी जाने के कारण ही उत्पादन में इतनी बढ़त दर्ज की गई है.

First published: 15 September 2018, 9:28 IST
 
अगली कहानी