Home » इंडिया » india- china army meeting over ncursion at pangong lake in ladakh and itbp-pla accept the attempt after doklam standoff.
 

लद्दाख: चीनी घुसपैठ की कोशिश को भारतीय जवानों ने किया नाकाम

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 August 2017, 12:55 IST
(file photo)

भारत और चीन के बीच सिक्किम में चल रहे डोकलाम विवाद पर लगातार हालात बिगड़ते जा रहे हैं. चीन और भारत दोनों ने वहां से अपनी सेना हटाने से इनकार कर दिया है. वहीं दूसरी ओर चीन की सेना ने मंगलवार को एक बार फिर लद्दाख में घुसपैठ करने की कोशिश की जिसे भारत के सैनिकों ने नाकाम कर दिया.

इसी मुद्दे पर बुधवार को चुशूल घाटी में भारतीय सेना और चीनी सेना के बीच बातचीत हुई. इस बॉर्डर पर्सनल मीटिंग में ITBP के जवान भी शामिल हुए. इस बातचीत में दोनों तरफ से सीमा पर तनाव कम करने पर सहमति बनी है. भारत-चीन सेना के जवानों ने एक-दूसरे को भरोसा दिया है कि आगे से ऐसी घटना नहीं होने देंगे.

एक निजी न्यूज़ चैनल को सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक इस मीटिंग में दोनों पक्षों ने माना है कि वह एक-दूसरे के क्षेत्र में आए थे. दोनों सेनाओं ने माना है कि बॉर्डर के दूसरे हिस्से पर चल रहे तनाव को किसी ओर क्षेत्र तक नहीं लाना चाहिए.

71वें स्वतंत्रता दिवस पर चीन ने की घुसपैठ

मंगलवार सुबह लद्दाख इलाके में पेंगोंग झील के उत्तरी किनारे पर दोनों सेनाओं के बीच टकराव हुआ था. गतिरोध लगभग आधे घंटे तक चला और फिर दोनों पक्ष वापस चले गए. घुसपैठ की कोशिश में नाकाम होते देख चीनी सैनिकों ने पत्थरबाजी शुरू कर दी थी. पत्थरबाजी से दोनों तरफ सैनिकों को हल्की चोटें आने की खबर है. 

चीनी सैनिक अपने साथ लोहे का रॉड लेकर भी आये थे. आईटीबीपी के जवानों ने उनको लाठियों से रोका, क्योंकि यहां के कुछ इलाकों में जवान गन के साथ पेट्रोलिंग नहीं करते हैं. इसके बाद वे अपने इलाके में वापस चले गए

गौरतलब है कि लद्दाख के पेंगोंग झील के इलाके को दोनों देश अपना-अपना होने का दावा करते रहे हैं. 1990 के दशक में जब भारत ने इस इलाके पर दावा किया था तो चीनी सेना ने यहां एक सड़क बनाकर इसे अक्साई चीन का हिस्सा बता डाला था. हालांकि बाद में भारत ने इसे अपने नियंत्रण में ले लिया था.

First published: 16 August 2017, 12:46 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी