Home » इंडिया » India-China confrontation: Rahul Gandhi asked- 'Why is PM silent, how dare China kill our soldiers'
 

राहुल गांधी ने पूछा- पीएम चुप क्यों हैं, चीन की हिम्मत कैसे हुई हमारे सैनिकों को मारने की ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 June 2020, 11:23 IST

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सरकार से लद्दाख की गलवान घाटी में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारतीय और चीनी सेनाओं के बीच हिंसक टकराव के बारे में जानकारी देने की मांग की है. मंगलवार रात भारतीय सेना ने जानकारी दी थी कि चीनी सेना के साथ हिंसक झड़प में उसके 20 सैनिक शहीद हो गए हैं. राहुल गांधी ने गांधी ने ट्वीट किया “पीएम चुप क्यों हैं? वह क्यों छुप रहे है? अब बहुत हो गया है. हमें यह जानने की जरूरत है कि हुआ क्या  है.” राहुल गांधी ने पूछा “चीन ने हमारे सैनिकों को मारने की हिम्मत कैसे की? हमारी जमीन लेने की उनकी हिम्मत कैसे हुई?''

मंगलवार को राहुल गांधी ने सैनिकों के शहीद होने पर ट्वीट किया था 'कोई भी शब्द उस भावना को व्यक्त नहीं कर सकता जो मैं उन सेना के अधिकारी और जवानों के लिए महसूस कर रहा हूं जिन्होंने देश के लिए जान दे दी. उनके सभी प्रियजनों के प्रति मेरी संवेदना है. हम इस मुश्किल समय में आपके साथ खड़े हैं''.


ANI के अनुसार भारतीय सेना के अधिकारियों ने दावा किया कि रेडियो इंटरसेप्ट और अन्य खुफिया जानकारी से पता चला है कि इस हिंसक झड़प में 43 चीनी सैनिक भी मारे गए हैं या गंभीर रूप से घायल हो गए हैं. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने इस घटना के लिए चीनी सैनिकों को दोषी ठहराया और दोनों पक्षों के सेना कमांडरों के बीच 6 जून को हुई बैठक का हवाला दिया, जिसमें दोनों पक्षों की भारी तैनाती के बाद "डी-एस्केलेशन की प्रक्रिया पर सहमति बनी.

वहीं पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) वेस्टर्न थिएटर कमांड के एक प्रवक्ता कर्नल झांग शुइली ने भारत को झड़पों के लिए दोषी ठहराया है. चीनी विदेश मंत्रालय ने भी ऐसा ही बयान जारी किया है. इससे पहले अक्टूबर 1975 में चीनी सेना ने अरुणाचल प्रदेश के तुलुंग ला सेक्टर में एक भारतीय गश्ती दल पर घात लगाकर हमला किया था, जिसमें चार सैनिकों की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. हालांकि इस बार फायरिंग से इनकार किया गया है.

समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से बताया कि सोमवार शाम पूर्वी लद्दाख में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प के बाद अब भी चार भारतीय सैनिक गंभीर हालत में हैं. सेना ने कल पुष्टि की थी कि लद्दाख की गलवान घाटी में 20 सैनिक शहीद हुए हैं.

भारत-चीन टकराव: भारतीय सैनिकों की मौत पर अमेरिका ने व्यक्त की संवेदना, कहा- स्थिति पर रखे हुए हैं नजर

सीमा पर टकराव : झारखंड से लेह-लद्दाख निर्माण कार्य के लिए जाने वाले श्रमिकों को रोका गया

First published: 17 June 2020, 11:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी