Home » इंडिया » India-China dispute: Sharad Pawar says Ladakh case is not Modi government's failure
 

भारत-चीन विवाद: PM मोदी के समर्थन में आए शरद पवार, कहा- लद्दाख प्रकरण सरकार की नाकामी नहीं

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 June 2020, 19:48 IST

India-China dispute: भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी लगातार मोदी सरकार पर हमलावर हैं. वहीं, दूसरी तरफ कांग्रेस के सहयोगी दल एनसीपी के नेता शरद पवार इस मुद्दे को मोदी सरकार की नाकामी नहीं मानते. इसके साथ ही शरद पवार का यह भी कहना है कि राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मामलों का राजनीतिकरण नहीं किया जाना चाहिए.

15-16 जून की रात भारत और चीनी सेना के बीच हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे. इसके बाद से ही राहुल गांधी लगातार प्रधानमंत्री मोदी और केंद्र सरकार पर निशाना साध रहे हैं. चीन के साथ तनातनी को लेकर कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी में आरोप-प्रत्यारोप का दौर चल रहा है.

गलवान घटना देश के रक्षामंत्री की नाकामी नहीं

इस दौरान शरद पवार ने कहा कि कोई भी यह नहीं भूल सकता कि चीन ने साल 1962 के युद्ध के बाद भारत के 45,000 वर्ग किलोमीटर जमीन पर कब्जा कर लिया था. उन्होंने कहा कि लद्दाख में गलवान घाटी में घटित हुई घटना को देश के रक्षा मंत्री की नाकामी बताने में जल्दबाजी नहीं की जा सकती. गश्त के दौरान भारतीय सेना के जवान चौकन्ने थे.

शरद पवार का यह बयान राहुल गांधी के उस आरोप पर थी कि पीएम मोदी ने चीन की आक्रामकता के चलते भारतीय क्षेत्र को सरेंडर कर दिया. उन्होंने कहा कि भारत-चीन विवाद का पूरा प्रकरण संवेदनशील है. चीन ने गलवान घाटी में उकसावे वाला रुख अपनाया हुआ है. चीन के सैनिकों ने हमारी सड़क पर अतिक्रमण करने की कोशिश की. इस दौरान धक्का मुक्की भी की. इसमें किसी की नाकामी नहीं है.

भारतीय सेना के जवान थे चौकन्ना

शरद पवार ने कहा कि यदि गश्त करने के दौरान कोई भी आपके क्षेत्र में आता है, तो वह किसी भी समय आ सकता है. इसमें हम यह नहीं कह सकते कि यह दिल्ली में बैठे देश के रक्षा मंत्री की नाकामी है. वहां गश्त चल रही थी, इस दौरान झड़प हुई. इसका मतलब यह हुआ कि भारतीय सेना के जवान चौकन्ना थे. यदि वे वहां नहीं होते तो आपको पता भी नहीं चलता कि कब चीनी सैनिक आए और चले गए. इसलिए उन्हें नहीं लगता कि ऐसे समय ये आरोप लगाना सही है.

CBSE ने जुलाई में होने वाली 10वीं और 12वीं की परीक्षा रद्द की, 1-15 जुलाई के बीच होनी थी परीक्षाएं

UP Board Result 2020: कुछ ही देर में जारी होने वाला है 10वीं और 12वीं का रिजल्ट

First published: 27 June 2020, 19:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी