Home » इंडिया » India China face Off: India begins preparations to defeat China in Air and land with military coordination
 

भारत ने शुरु की सैन्य तालमेल से चीन को जमीन और हवा में पस्त करने की तैयारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 October 2020, 6:55 IST

India China face Off: पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में चीन (China) के साथ जारी तनाव के बीच अब भारत (India) ड्रैगन (Dragon) को जमीन के साथ हवा में पस्त करने की तैयारी में जुट गया है. जिससे चीन को जमीन के साथ हवा में भी मात दी जा सकेगी. इन सब में दस महीने पहले हुई चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (Chief of Defence Staff), सेना और वायुसेना के प्रमुखों की पुरानी दोस्ती इस बार युद्ध की स्थिति में अहम भूमिका निभाएगी. जिसके लिए सीडीएस, सेना और वायुसेना ने तैयारियां शुरु कर दी हैं. इस योजना के तहत लेह में वायु सेना के युद्धक हेलिकॉप्टर्स को तैनात किया गया है.

वहीं शीर्ष नेतृत्व से वायुसेना को सेना की हर जरूरतों में भरपूर सहयोग का निर्देश दे दिया गया है. इस सब के बीच सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवाणे और वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया की गहरी दोस्ती उनकी सेनाओं के समन्वय को अलग ही ताकत प्रदान करेगी. इसके साथ ही पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर तनातनी के बीच वायुसेना के सी-17, इल्यूशिन-76 और सी-130जे सुपर हरक्यूलिस को अग्रिम चौकियों पर मुस्तैद जवानों के लिए हथियार व राशन के साथ तैनात कर दिया गया है. बता दें कि नरवाणे और भदौरिया एनडीए (National Defence Academy) के वक्त से अच्छे दोस्त हैं.


SSR Case: दीपिका, श्रद्धा और सारा से ड्रग्स मामले में पूछताछ करने वाले अधिकारी निकले कोरोना पॉजिटिव

अग्रिम चौकी पर तैनात सेना के एक अधिकारी के मुताबिक, सीडीएस बिपिन रावत और दोनों सेनाओं के प्रमुख इन दिनों अक्सर चर्चा करते हैं और चीन को करारा जवाब देने की योजनाएं बनाते हैं. इनकी इस तैयारी की झलक जमीनी स्तर पर जवानों के बीच भी साफ दिखाई दे रही है. दोनों संयुक्त ऑपरेशंस के जरिये चौकसी बढ़ाए हुए हैं. यही नहीं सेना और वायुसेना मिलकर लद्दाख क्षेत्र में दोनों पड़ोसियों पाकिस्तान और चीन से निपटने की तैयारी में हैं.

COVID-19 Update: दुनियाभर अब तक तीन करोड़ 52 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित, 10.39 लाख की मौत

इसके साथ ही लेह से एलएसी की ओर जाने वाली सड़क पर चिनूक हेलिकॉप्टर्स की नियमित गश्त की जा रही है. इनके जरिये अग्रिम चौकियों पर मोर्चा संभाल रहे सैनिकों को रसद पहुंचाने का काम चल रहा है. दोनों सेनाओं के सहयोग से दुश्मन को शिकस्त देने की पूरी तैयारी है. बता दें कि इसी साल जून महीने पूर्वी लद्दाख में पेंगोंग झील के पास भारत और चीन के सैनियों के बीच खूनी झड़प हो गई थी. जिसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे.

बिहार: पूर्णिया में आरजेडी के पूर्व नेता की हत्या मामले तेजस्वी और तेजप्रताप समेत 6 के खिलाफ एफआईआर दर्ज

 

 

First published: 5 October 2020, 6:55 IST
 
अगली कहानी