Home » इंडिया » India China Face Off: Modi govt canceled mahasetu project bridge in Patna
 

मोदी सरकार ने चीनी कंपनियों को दिया बड़ा झटका, 2900 करोड़ रुपये का पुल का टेंडर किया रद्द

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 June 2020, 17:37 IST

India China Face Off: भारत और चीनी सेना के बीच 15-16 जून की रात लद्दाख के गलवान घाटी में हिंसक झड़प हुई थी. इस झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे. इस घटना के बाद देशभर में चीनी सेना और चीन के खिलाफ जबरदस्त गुस्सा व्याप्त है. देश में चीनी सामानों के बहिष्कार की मांग जोरों-शोरों से उठ रही है. 

इस बीच केंद्र की मोदी सरकार ने चीन को बड़ा झटका दिया है. केंद्र सरकार ने चीनी कंपनी को दिया 2900 करोड़ रुपये का टेंडर रद्द कर दिया है. केंद्र सरकार ने बिहार के पटना में गंगा नदी पर बने महात्मा गांधी सेतु के समानांतर एक पुल बनाने के लिए 2900 करोड़ रुपये का टेंडर दिया था. इसका नाम  महासेतु परियोजना था.

इस परियोजना में चीन की कंपनियां शामिल थीं. बिहार सरकार के शीर्ष आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि केंद्र सरकार ने इस टेंडर को इसलिए रद्द कर दिया क्योंकि परियोजना में चुने गई कंपनियों में चार में से दो चीनी थीं. इस पूरी परियोजना पर 2,900 करोड़ रुपये का खर्च आने का अनुमान था.

हार्ले डेविडसन पर बैठे सीजेआई बोबडे की तस्वीर सोशल मीडिया पर हो रही है वायरल, लोग कर रहे हैं कमेंट

मुख्य रूप से इस परियोजना में गंगा नदी पर 5.6 किलोमीटर लंबा पुल तथा अन्य छोटे पुल के अलावा अंडरपास तथा रेल उपरगामी पुल शामिल है. माना जा रहा है कि भारत-चीन के बीच चल रहे विवाद को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है. 16 दिसंबर 2019 को प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में केंद्र सरकार की कैबिनेट कमेटी ने इस महासेतु परियोजना को मंजूरी दी थी.

महासेतु परियोजना

बिहार के पटना में प्रस्तावित महासेतु को गंगा नदी पर बने महात्मा गांधी सेतु के समानांतर बनाया जाना है. इस पुल के बनने से पटना, सारण और वैशाली जिलों को सहूलियतें होंगी. योजना के मुताबिक एक मुख्य सेतु, इसके साथ चार अंडर पास, एक रेल उपरगामी पुल, फ्लाईओवर, चार छोटे पुल, पांच बस पड़ाव तथा 13 रोड जंक्शन का निर्माण होना है. इस परियोजना के निर्माण की अवधि साढ़े तीन साल थी, इसे जनवरी 2023 तक पूरा होना था.

लद्दाख में LAC पर चीन के साथ टकराव के चलते राफेल फाइटर जेट्स की डिलीवरी में लायी गई तेजी

जम्मू-कश्मीर: सैयद अली शाह गिलानी ने अलगाववादी संगठन हुर्रियत कॉन्फ्रेंस का छोड़ा साथ

First published: 29 June 2020, 17:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी