Home » इंडिया » India China Standoff: Defence Minister Rajnath Singh may give a statement in Parliament today on India China Issue
 

भारत-चीन तनाव पर आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह संसद में दे सकते हैं बयान

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 September 2020, 7:26 IST

पिछले कई महीनों से चला आ रहा भारत-चीन (India-China) के बीच तनाव को लेकर आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) संसद में बयान दे सकते हैं. संसदीय सूत्रों के मुताबिक, मंगलवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पूर्वी लद्दाख (Ladakh) में वास्तविक नियंत्रण रेखा (Line of Actual Control) के पास भारत और चीनी सैनिकों (Indian-Chinese Troops) के बीच जारी गतिरोध को लेकर  संसद में एक बयान दे सकते हैं. बता दें सिंह का ये बयान विपक्ष की ओर से इस मुद्दे पर चर्चा कराये जाने के चलते बहुत महत्वपूर्ण माना जा रहा है. राजनाथ की हाल में मास्को (Moscow) में चीन के रक्षा मंत्री वेई फेंगहे के साथ मुलाकात हुई थी. उससे पहले विदेश मंत्री जयशंकर (S. Jaishankar) ने भी चीन के अपने समकक्ष वांग यी (Wang Yi) के साथ मुलाकात की थी.

इसके अलावा मंगलवार को कैबिनेट और मंत्रिमंडल की आर्थिक मामलों की समिति की वीडियो कांफ्रेंस के जरिये बैठक हो सकती है. सरकार के सूत्रों ने यह जानकारी दी है. बता दें कि सोमवार से शुरू हुए संसद के मानसून सत्र में विपक्ष भारत-चीन मुद्दे (India-China Dispute) के साथ-साथ कोरोना वायरस की स्थिति (Covid-19 Situation), आर्थिक शिथिलता और बेरोजगारी (Unemployment) जैसे मुद्दों पर सरकार को घेरने का कोई मौका नहीं छोड़ रही.ने के पक्ष में नहीं है.


मॉनसून सत्र: TMC सांसद ने की वित्त मंत्री के पहनावे पर टिप्पणी, संसदीय कार्य मंत्री ने कहा माफी मांगें

लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने सोमवार को भारत-चीन सीमा पर तनाव के मुद्दे को उठाने का प्रयास किया, लेकिन लोकसभा अध्यक्ष ने उनसे इस विषय को कार्य मंत्रणा समिति (BAC) की बैठक में उठाने को कहा. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि यह एक  ‘संवेदनशील’ मुद्दा है और इसे गंभीरता के साथ उठाया जाना चाहिए. इस विषय को बीएससी में रखें. इससे पहले अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि, "मैं सरकार और रक्षा मंत्री का ध्यान ऐसे मुद्दे की ओर दिलाना चाहता हूं जो कई महीनों से हमारे सामने है. देश के लोग सीमा की स्थिति को लेकर चिंतित हैं."

हिंदी दिवस: क्या आप जानते हैं? हिंदी नहीं है हमारी राष्ट्रभाषा

उन्होंने कहा कि आज ऐसी खबरें आई हैं कि चीन हमारे यहां नजर रख रहा है. उन्होंने कहा, "हम इस विषय पर चर्चा कराने की मांग करते हैं." वहीं पीएम मोदी ने भी विश्वास जताया कि संसद एक स्वर में यह संदेश देगी कि वह हमारी सीमाओं की रक्षा करने वाले वीर सैनिकों के साथ एकजुटता से खड़ी है और ऐसा करना संसद की विशेष जिम्मेदारी भी है.

मानसून सत्र के पहले ही दिन 17 सांसद निकले कोरोना पॉजिटिव, BJP की मीनाक्षी लेखी का नाम भी शामिल

First published: 15 September 2020, 7:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी