Home » इंडिया » India France biggest space settlement plan satellites for to monitor the movements of China
 

चीन की हरकतों पर नजर रखने के लिए भारत और फ्रांस ने मिलकर किया सबसे बड़ा काम..

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 September 2018, 16:56 IST

चीन की हरकतों पर नजर रखने के लिए भारत और फ्रांस मिलकर एक योजना बना रहे हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, भारत और फ्रांस ने मिलकर समुद्री निगरानी के लिए 8-10 उपग्रह भेजने की योजना बनाई है. खास बात यह है कि यह किसी भी देश के साथ भारत की सबसे बड़ी अंतरिक्ष साझेदारी होगी.

फ्रांसीसी अंतरिक्ष एजेंसी सीएनईएस प्रमुख ज्यां येव्स ली गॉल ने बताया कि अंतरिक्ष में भेजे जाने वाले आठ-दस समुद्री निगरानी उपग्रह का फोकस हिंद महासागर पर होगा. बता दें कि समुद्री इलाकों में चीन की मौजूदगी तेजी से बढ़ रही है. ऐसे में भारत और फ्रांस के इस कदम से चीन पर नजर रखने में मदद मिलेगी.

पढ़ें- इस बड़े मामले में साथ आए भारत और पाकिस्तान WTO में एकजुट हो रखेंगे अपनी बात

गॉल ने बताया, "फ्रांस, मंगल और शुक्र ग्रह पर भेजे जाने वाले अंतर ग्रह मिशनों पर ISRO के साथ अपनी विशेषज्ञता भी साझा करेगा. हमने समुद्री निगरानी के लिए नए उपग्रहों के समूहों पर बातचीत शुरू कर दी है. निश्चित तौर पर इसमें समय लगेगा." 

पढ़ें- Video: पाकिस्तान के उच्चायुक्त नशे में धुत होकर अवॉर्ड शो में पहुंचे, इमरान सरकार ने किया तलब

उन्होंने बताया कि हम आठ से दस उपग्रह की योजना पर काम कर रहे हैं. सीएनईएस के एक अन्य अधिकारी ने बताया कि इस प्रक्षेपण का मकसद समुद्री यातायात प्रबंधन की निगरानी करना है. इसमें पांच साल से भी कम समय लगेगा. बता दें कि इसी साल मार्च में भारत और फ्रांस ने अंतरिक्ष के लिए संयुक्त विजन पेश कर इसरो और सीएनईएस के बीच सहयोग मजबूत करने का संकल्प जताया था.

First published: 16 September 2018, 16:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी