Home » इंडिया » India is worse than Nepal in global hunger index, Rahul Gandhi attacks on Modi Government
 

भुखमरी सूचकांक में भारत की स्थिति नेपाल से भी बदतर, राहुल गांधी बोले- सरकार भर रही अपने मित्रों की जेब

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 October 2020, 13:56 IST

Global Hunger Index: भुखमरी सूचकांक में भारत की स्थिति पड़ोसी देश नेपाल से भी बदतर है. 107 देशों की सूची में भारत जहां 94वें नंबर पर है, वहीं नेपाल 73वें नंबर पर है. इस सूची में भारत से आगे पड़ोसी देश पाकिस्तान और बांग्लादेश भी हैं. पाकिस्तान इस सूची में जहां 88वें नंबर पर है, वहीं बांग्लादेश इस सूची में 75वें नंबर पर है. 

इसे लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है. राहुल गांधी ने एक ट्वीट में लिखा, "भारत का ग़रीब भूखा है क्योंकि सरकार सिर्फ़ अपने कुछ ख़ास ‘मित्रों’ की जेबें भरने में लगी है." इसके साथ ही राहुल गांधी ने भारत के पड़ोसी देशों की सूची भी ट्वीट के साथ चस्पा की है. इसमें भारत पड़ोसी देशों से पीछे नजर आ रहा है.

बता दें कि दुनिया के सिर्फ 13 ही देश हैं जो हंगर इंडेक्स में भारत से पीछे हैं. इनमें रवांडा 97वें नंबर पर, नाइजीरिया 98वें नंबर पर, अफगानिस्तान 99वें, लीबिया 102वें, मोजाम्बिक 103वें और चाड 107वें नंबर पर हैं. ये देश दुनिया के काफी गरीब देशों में शामिल हैं. इस बार 107 देशों के लिए ग्लोबल हंगर इंडेक्स की रैंकिंग जारी की गई है. इसमें भारत 94 पायदान पर आया है.

साल 2019 में 117 देशों की ग्लोबल हंगर रिपोर्ट जारी की गई थी, जिसमें भारत 102वें नंबर पर था. इस बार भारत की रैंकिंग 8 नंबर सुधरी जरूर है. लेकिन रिपोर्ट कहती है कि 27.2 के स्कोर के साथ भारत भूख के मामले में 'गंभीर' स्थिति में है. भले ही पिछली बार की तुलना में भारत की रैंकिंग में सुधार हुआ है, लेकिन कुल देशों की संख्या भी इस बार घटी है.

ग्लोबल हंगर इंडेक्स की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत की करीब 14% जनसंख्या कुपोषण का शिकार है. भारत के बच्चों में स्टंडिंग रेट भी 37.4 परसेंट है. स्टन्ड बच्चे वो होते हैं जिनकी लंबाई उनकी उम्र की तुलना में कम होती है. इन बच्चों में भयानक कुपोषण दिखता है. भारत अपने पड़ोसी देशों नेपाल, म्यामांर, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, इंडोनेशिया जैसे देशे से भी पीछे है. 

ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत साल 2015 में 93वें नंबर पर था. वहीं साल 2016 में 97वें, 2017 में 100वें, 2018 में 103वें और 2019 में 202वें नंबर पर रहा था. रिकॉर्ड से पता चलता है कि भारत में भुखमरी को लेकर संकट बरकरार है. बच्चों में  कुपोषण की स्थिति भारत में भयावह है.

सर्दियों में फिर कहर बरपा सकता है कोरोना वायरस, सामने आई ये वजह, विशेषज्ञों ने दी लोगों को अहम सलाह

Video: कोई नहीं करेगा फायर..हवा में हाथ उठा बाहर आया आतंकी..किया सरेंडर, पिता ने छू लिए जवान के पैर

First published: 17 October 2020, 13:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी