Home » इंडिया » India lifted 271 million people out of poverty in 10 years: UN
 

भारत ने 10 साल में 27 करोड़ से ज्यादा लोगों को गरीबी से बाहर निकाला : संयुक्त राष्ट्र

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 July 2019, 12:27 IST

भारत ने 2006 से 2016 के बीच 27.1 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर निकाला. इस अवधि के दौरान गरीबी, खाना पकाने के लिए ईंधन, स्वच्छता और पोषण" जैसे क्षेत्रों में मजबूत सुधार के साथ गरीबी कमी दर्ज की गई है. संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP), ऑक्सफोर्ड पावर्टी एंड ह्यूमन डिवेलपमेंट इनिशिएटिव (OPHI) द्वारा तैयार रिपोर्ट गुरुवार को जारी की गई. रिपोर्ट में कहा गया है कि 101 देशों में अध्ययन किया गया है. औरयह 10 इंडिकेटर पर आधारित था. 

कहा गया है कि 31 निम्न आय, 68 मध्यम आय और 2 उच्च आय वाले 1.3 बिलियन लोग बहुआयामी रूप से गरीब हैं, जिसका अर्थ है कि गरीबी को न केवल आय से परिभाषित किया जाता है, बल्कि कई संकेतक भी शामिल हैं. खराब स्वास्थ्य, काम की खराब गुणवत्ता और हिंसा का खतरा इसमें शामिल हैं. रिपोर्ट में 10 देशों की पहचान की गई है, जिनकी आबादी लगभग 2 बिलियन है, और वह गरीबी में कमी के स्तर को दर्शाते हैं. हालांकि भारत के झारखंड को दुनिया के सबसे गरीब क्षेत्रों में गिना गया है.

10 देश बांग्लादेश, कंबोडिया, डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो, इथियोपिया, हैती, भारत, नाइजीरिया, पाकिस्तान, पेरू और वियतनाम इनमे शामिल हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि यह प्रगति काफी हद तक दक्षिण एशिया द्वारा की गई है. भारत में 2006 की तुलना में 2016 में गरीबी में 271 मिलियन (27 करोड़ 10 लाख) कम लोग थे, जबकि 2004 और 2014 के बीच बांग्लादेश में यह संख्या 19 मिलियन घट गई.” भारत का MPI मूल्य 2005-06 में 0.283 से घटकर 2015-16 में 0.123 हो गया.

इथियोपिया, भारत और पेरू ने सभी 10 संकेतकों पोषण, स्वच्छता, बाल मृत्यु दर, पीने के पानी, स्कूली शिक्षा के वर्षों, बिजली, स्कूल की उपस्थिति, आवास, खाना पकाने के ईंधन और परिसंपत्तियों में काफी सुधार किया है. रिपोर्ट में यह भी दिखाया गया है कि बच्चों को वयस्कों की तुलना में अधिक तीव्रता से गरीबी का सामना करना पड़ता है और सभी 10 MPI संकेतकों से वंचित होने की संभावना है. जिसमें स्वच्छ पानी, स्वच्छता, पर्याप्त पोषण या प्राथमिक शिक्षा जैसे आवश्यक चीजों की कमी है. बांग्लादेश, कंबोडिया, हैती, भारत और पेरू में वयस्क गरीबी की तुलना में बाल गरीबी में तेजी से गिरावट आई है.

क्रिप्टोकरेंसी पर बरसे ट्रंप : कहा- फेसबुक और अन्य कंपनियां बैंक बनना चाहती हैं

First published: 12 July 2019, 12:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी