Home » इंडिया » India's first Armed Forces Special Operations Division, Major General AK Dhingra to head
 

PM मोदी का सपना साकार, आतंकियों का होगा पूरा सफाया, भारत ने बनाई सबसे खतरनाक कमांडो फोर्स

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 May 2019, 14:10 IST

भारत का बुरा चाहने वाले आतंकियों और देश के दुश्मनों की अब खैर नहीं है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल जोधपुर के संयुक्त कमांडरों सम्मेलन में 'आर्म्ड फोर्सेज स्पेशल आपरेशंस डिवीजन' को स्थापित करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी. इसके साथ ही अब रक्षा मंत्रालय ने आर्म्ड फोर्सेज स्पेशल आपरेशंस डिवीजन के पहले चीफ को नियुक्त कर दिया है.

पीएम मोदी के फैसले के बाद रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, रक्षा सचिव संजय मित्रा और तीनों सेनाओं के प्रमुखों ने आर्म्ड फोर्सेज स्पेशल आपरेशंस डिवीजन को स्थापित किया है. यह देश के भीतर और बाहर किसी भी बड़े आतंकवाद-विरोधी अभियान को अंजाम देगा. आर्म्ड फोर्सेज स्पेशल आपरेशंस डिवीजन के अपने हथियार, सर्विलांस विंग, हेलीकॉप्टर, इंटेलिजेंस विंग, ट्रांसपोर्ट विमान होंगे. ये कभी भी आतंकी ठिकानों को खत्म करने पर काम करेंगे.

मेजर जनरल एके ढींगरा आर्म्ड फोर्सेज स्पेशल आपरेशंस डिवीजन की जिम्मेदारी संभालेंगे. डिवीजन में भारत की सबसे खतरनाक सेना की पैराशूट रेजिमेंट, नौसेना की मार्कोस और वायु सेना के गरुड़ कमांडों बल शामिल होंगे. यह पहला मौका है जब तीनों सेनाओं की सबसे खतरनाक फ़ोर्स एक नियंत्रण बोर्ड के अंतर्गत काम करेंगी. हालांकि पहले भारत की इन तीनों सेनाओं ने मिलकर कई ऑपरेशंस को अंजाम दिया है.

मेजर जनरल एके ढींगरा को स्पेशल फोर्सेज का अच्छा ख़ासा तजुर्बा है. वो स्पेशल फोर्सेज के दिग्गज माने जाते हैं. वह कुलीन 1 पैरा स्पेशल फोर्सेज रेजिमेंट से आते हैं. ढ़ींगरा ने अमेरिका में स्पेशल ऑपरेशंस कोर्स किया है. बताया जाता है कि भारत ने जब श्रीलंका में पीसकीपिंग फोर्स भेजी थी तब मेजर ढींगरा वहां इंडियन पीसकीपिंग फोर्स ऑपरेशन का हिस्सा रहे थे.

सूत्रों के अनुसार, आर्म्ड फोर्सेज स्पेशल आपरेशंस डिवीजन के अंतर्गत 3 हजार कमांडो रहेंगे. इसका मुख्यालय आगरा या बेंगलुरू में बनाया जाएगा. खास बात यह है कि यह डिवीजन ओसामा बिन लादेन को ख़त्म करने वाली यूएस स्पेशल ऑपरेशंस कमांड फ़ोर्स के तर्ज पर काम करेगी.

रेलवे ने यात्रियों को दी बड़ी सुविधा, सेहत बिगड़ने पर चंद मिनटों में आएगा डॉक्टर, बस करना होगा ये काम

First published: 17 May 2019, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी