Home » इंडिया » India's most advanced guided missile destroyer Mormugao launched in Mumbai
 

समंदर में उतरा भारतीय नौसेना का मिसाइल-डिस्ट्रॉयर युद्धपोत 'मोरमुगाओ'

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 September 2016, 16:03 IST
(एएनआई)

भारतीय नौसेना के सबसे शक्तिशाली युद्धपोत 'मोरमुगाओ' का शनिवार को अनावरण किया गया. स्वदेशी तकनीक से बने इस युद्धपोत को पूजा-पाठ के बाद मुंबई के मझगांव यार्ड से समुद्र में उतारा गया. 

इस मौके पर एडमिरल सुनील लंबा और उनकी पत्नी रीना लंबा और नेवी के कई बड़े अधिकारी मौजूद रहे.

यह मिसाइल विध्वंसक 'प्रोजेक्ट 15 बी' श्रेणी का दूसरा गाइडेड मिसाइल विनाशक जहाज है. इसका निर्माण मझगांव शिपयार्ड में किया गया है. ये तकनीकी तौर पर भारत का अब तक का सबसे उन्नत युद्धपोत है.

मोरमुगाओ नौसेना के 'कोलकता-क्लास' का ऐसा दूसरा विनाशक-जहाज है जो बनकर तैयार हुआ है. इस क्लास का पहला जहाज, 'विशाखापट्टनम' बनकर तैयार होने वाला है.

भारतीयन नौसेना ने मीडिया को बताया कि ये युद्धपोत दुनिया के सबसे आधुनिक एडवांस्ड गाइडेड मिसाइल डिस्ट्रॉयर हैं. मुरामुगाओ स्टेट-ऑफ-द-आर्ट वेपंस/सेंसर्स, स्टेल्थ फीचर और उच्च ऑटोमेशन जैसी अत्याधुनिक तकनीकी से लैस है. यह 75 हजार वर्ग किमी समुद्री क्षेत्र की निगरानी करने में सक्षम है.

मोरमुगाओ का वजन 7300 टन है और इसकी लंबाई 163 मीटर है. इस युद्धपोत में चार यूक्रेनियन गैस टर्बाइन इंजन लगे हैं, जो इसे 30 नॉट (करीब 56 किलोमीटर प्रति घंटा) तक की रफ्तार देते हैं. इस श्रेणी के युद्धपोत को स्टेल्थ तकनीक से बनाया गया है जो मिसाइल को भी चकमा देने में सक्षम है.

माना जा रहा है कि इस पोत पर 50 अधिकारियों समेत 250 से ज्यादा नौसैनिक तैनात रहेंगे. इसे भारत में ही निर्मित दुनिया की एकमात्र क्रूज बैलेस्टिक मिसाइल, बह्मोस से लैस किया गया है.

मोरमुगाओ में इजराइल का मल्टी फंक्शन सर्विलांस थ्रेट अलर्ट रडार 'एमएफ-स्टार' लगा है जो कई किमी दूर से हवा में मौजूद लक्ष्य को पहचानने में सक्षम है.

भारत सरकार ने 2011 में प्रोजेक्ट 15बी शुरू किया था जिसके तहत अत्याधुनिक उपकरणों से लैस इस तरह के चार जंगी जहाज तैयार किए जाने थे. इस परियोजना की कुल लागत 29 हजार 700 करोड़ है. सरकार इस परियोजना के जरिए स्वदेशीकरण के 68 फीसदी टारगेट को भी छूना चाहती है.

इसके अलावा सरकार ने प्रथम स्वदेशी विमान वाहक पोत के लिए साल 2018 का लक्ष्य रखा है. नौसेना का लक्ष्य 2027 तक अपने बेड़े में 212 जहाज शामिल करने का है.

First published: 17 September 2016, 16:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी