Home » इंडिया » india will send 20 docters to Pakistan for the health checkup of indian prisoners in pakistan
 

बड़ी खबर: भारत के 20 डॉक्टर जाएंगे पाकिस्तान

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 March 2018, 15:25 IST

भारत और पाकिस्तान ने दोनों देशों के बीच तनाव कम करने के लिए एक प्रस्ताव पर काम करेगी. जिसके तहत 20 डॉक्टरों की टीम पाकिस्तान जाएगी.डॉक्टर वहां जेलों में बंद भारतीय बच्चों, महिलाओं, बुजुर्गों और दिमागी रूप से बीमार कैदियों की जांच करेंगे. दोनों देशों के बीच इस पर आम राय बनने के बाद से ये कैदी स्वदेश वापसी का इंतजार कर रहे हैं.

दोनों देशों में डॉक्टरों को वीजा देने को लेकर चर्चा चल रही है. हालांकि पाकिस्तान सभी डॉक्टरों को वीजा देने को तैयार नहीं है. भारत ने तनाव कम करने के लिए इस मामले पर प्रयास तेज कर दिए हैं. इस बीच, दोनों देशों के राजनयिकों की ओर से परेशान किए जाने के आरोप भी लगाए गए हैं.

ये भी पढ़ें- अमेरिका में दुनिया का सबसे बड़ा विरोध प्रदर्शन, इसलिए सड़कों पर उतरे छात्र

भारत ने रखीं 4 शर्तें

भारत ने चार शर्तें रखी हैं, इसमें भारत के राजनयिकों को परेशान करने पर रोक लगाना
उच्चायुक्त अजय बिसारिया को इस्लामाबाद से बाहर जाने की अनुमति देना
इस्लामाबाद में भारतीय रेजिडेंशल कॉम्प्लेक्स बनाने
भारतीय डिप्लोमैट्स को इस्लामाबाद क्लब की सदस्यता देना शामिल है.

पाकिस्तान पर लगाया भारतीय वेबसाइट्स को ब्लॉक करने का आरोप
भारत ने पाकिस्तान पर आरोप लगाया है कि वह भारतीय वेबसाइट्स को ब्लॉक कर रहा है. यह आवश्यक है कि भारत सरकार बीमार कैदियों का परीक्षण करवाने के बाद उन्हें स्वदेश लाने की प्रक्रिया शुरू करे. अक्टूबर 2017 में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त सोहेल महमूद के बीच चर्चा के बाद यह फैसला लिया गया था.सुषमा स्वराज ने मानवीय आधार पर प्रस्ताव रखा था कि दोनों देश बच्चों, महिलाओं, बुजुर्गों और दिमागी रूप से बीमार कैदियों को एक दूसरे को सौंप दें.7 मार्च को सूचना मिली की पाकिस्तान की तरफ से इस प्रस्ताव पर सकारात्मक प्रतिक्रिया दी गई है.

ये भी पढ़ें- जल्द भोजन की व्यवस्था नहीं हुई तो हो सकती है 13 करोड़ लोगों की मौत : संयुक्त राष्ट्र

दोनों देशों के बीच डिप्लोमेटिक संबंधों को लेकर कुछ तनाव आ रहा है. जिसके मद्देनजर ये पहल की जा रही है. जिससे कि इस तनाव को कम किया जा सके. हालांकि सूत्रों का कहना है कि यह हो सकता है कि पाकिस्तान 20 डॉक्टरों नहीं, बल्कि कुछ कम डॉक्टरों के लिए वीजा दे. गौरतलब है कि खासकर मनोरोगी मरीजों की अच्छे डॉक्टरों से जांच जरूरी है ताकि उन्हें भारत भेजना सहज हो सके.

First published: 26 March 2018, 15:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी