Home » इंडिया » Indian Air Force announces Rs 5 lakh award for information on location of missing AN 32 aircraft
 

वायुसेना के विमान का 6 दिन बाद भी नहीं चला कोई पता, बताने वाले को मिलेगा इतने रुपये इनाम

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 June 2019, 8:11 IST

भारतीय वायुसेना के लापता एएन-32 एयरक्राफ्ट का 6 दिन बात भी कोई सुराग नहीं मिली. अब वायुसेना ने इस विमान की जानकारी देने वाले को इनाम की घोषणा की है. भारतीय वायु सेना का एयरक्राफ्ट AN-32 सोमवार को उड़ान भरने के कुछ देर बाद ही लापता हो गया था. विमान की खोज में वायुसेना और विभिन्न एजेंसियां लगी हुई हैं, बावजूद इसके विमान का अबतक कोई सुराग नहीं मिला है. शनिवार को खराब मौसम के बावजूद भी विमान का खोज अभियान चलाया गया. लेकिन विमान का कोई पता नहीं चला. इसी बीच वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ ने शनिवार को जोरहाट का दौरा किया.

वायु सेना के अधिकारियों ने एयर चीफ मार्शल धनोआ को अभियान के बारे में विस्तृत जानकारी दी है. धनोवा ने वायुसेना के अधिकारियों से मुलाकात के अलावा लापता विमान में सवार कर्मियों के परिजनों से मुलाकात की. विमान का कोई पता नहीं चलने पर अब वायुसेना की ओर से विमान के बारे में सूचना देने वाले को 5 लाख रुपये इनाम देने की घोषणा की गई है. ईस्टर्न एयर कमांड के एयर मार्शल आरडी माथुर ने घोषणा की है कि उस व्यक्ति या समूह को 5 लाख रुपये दिए जाएंगे जो भी गायब एयरक्राफ्ट को ढूंढने के लिए पुख्ता जानकारी मुहैया कराएगा.

बता दें कि रूस निर्मित एएन-32 विमान ने सोमवार को अरुणाचल प्रदेश के शि-योमि जिले के मेचुका एडवांस्ड लैंडिंग ग्राउंड के लिए दोपहर 12 बजकर 27 मिनट पर असम के जोरहाट से उड़ान भरी थी. लेकिन करीब एक बजे विमान का संपर्क नियंत्रण कक्ष के टूट गया. उसके बाद विमान का कोई पता नहीं चला. इस विमान में चालक दल के आठ सदस्य और वायुसेना का पांच अन्य अधिकारी सवार थे.

वायु सेना के प्रवक्ता विंग कमांडर रत्नाकर सिंह ने बताया कि खोज टीम इसरो के उपग्रहों सहित विभिन्न एजेंसियों के उन्नत तकनीक और सेंसर के साथ विमान का पता लगाने की कोशिश कर रही हैं. उन्होंने बताया कि, ‘‘दुर्गम इलाके और घने जंगल से मिशन प्रभावित हो रहा है. दिन भर खराब मौसम और कम दृश्यता की वजह से हवाई अभियानों को गंभीर चुनौती का सामना करना पड़ा है.’’

रत्नाकर ने बताया कि खराब मौसम के बावजूद वायु सेना, थल सेना और स्थानीय प्रशासनों का संयुक्त खोज अभियान जारी है. स्थानीय और जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ भारतीय सेना और भारत-तिब्बत सीमा पुलिस की टीमें सियांग जिले के आसपास के इलाकों में सर्च ऑपरेशन चला रही हैं.

नीतीश कुमार बोले- हम नहीं जानते प्रशांत किशोर की मंशा क्या है?

First published: 9 June 2019, 8:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी