Home » इंडिया » Indian Amry said Pakistan Army landmine has also been recovered from one of the caches of terrorists
 

भारतीय सेना का बड़ा खुलासा, पाकिस्तानी सेना की मदद से अमरनाथ यात्रा पर हमले की फिराक में थे आंतकी

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 August 2019, 16:02 IST

जम्मू कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह, भारतीय सेना के लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लन ने पाकिस्तान से आंतकियों के घुपपैठ पर संयुक्त रूप से प्रेस कांफ्रेंस की. भारतीय सेना की नॉर्थन कमांड में चिनार कोर्प्स के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लन ने इस दौरान पत्रकारों को बताया कि आंतकी अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाने की फिराक में है. लेकिन भारतीय सेना की चौकसी के कारण वो कोई बड़ा हमला नहीं कर पाए.

लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लन ने कहा,'अभी सीमा पर हालात काबू में है, पाकिस्तान से घुसपैठ की कोशिश को नामका किया जा रहा है.' साथ ही उन्होंने कहा,'जिस तरह के आईईडी हमे मिल रहे हैं और आईईडी बनाने में एक्सपर्ट आतंकवादी जिन्हें हम पकड़ रहे हैं उनसे मिली जानकारी के अनुसार पाकिस्तान कश्मीर में शांति को बाधित करने की कोशिश कर रहा है. हम कश्मीर के आवाम को आश्वस्त करते हैं कि किसी को भी शांति भंग करने की अनुमति नहीं दी जाएगी.'

लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लन ने इस दौरान बताया कि अमरनाथ यात्रा मार्ग पर हथियारों के एक बड़े जखीरे का पता लगाया है. जिसमें पाकिस्तान की ऑर्डिनेंस फैक्ट्री में निर्मित एक लैंड माइन और अमेरिका में निर्मित एक स्नाइपर गन बरामद हुई है. उन्होंने कहा कि इससे पता चलता है कि पाकिस्तान अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाने की साजिश रच रहा था.

लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लन ने कहा,'हमने कश्मीर में आंतका का काफी गहन अध्यन किया है. जम्मू कश्मीर में 83 पत्थरबाज आतंकवादी बने. मैं सभी माताओं ने निवेदन करना चाहूंगा कि अगर आच आपका बच्चा 500 रूपये के लिए पत्थरबाज बनता है तो वो भविष्य में वो आंतकी बनेगा.'

कुलभूषण जाधव के कांसुलर एक्सेस को भारत ने ठुकराया, पाकिस्तान देना चाहता था सशर्त एक्सेस

First published: 2 August 2019, 15:32 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी