Home » इंडिया » Indian armed forces facing shortage of more then 52000 personnel.
 

'सेना के पास न लड़ने के लिए हथियार, न जवान'

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 July 2017, 10:43 IST

भारतीय सेना में 52,000 से अधिक पद खाली हैं. रक्षा राज्यमंत्री सुभाष भामरे ने शुक्रवार को लोकसभा में इसकी जानकारी दी. सबसे ज्यादा थल सेना में 25,472 जवानों की कमी है. इसके बाद वायुसेना (13,785) और नौसेना (13,373) में भी जवानों की कमी है.

लोकसभा मेंसुभाष भामरे ने बताया, कि जूनियर कमीशन के रैंकों में 52,000 से अधिक कार्मिक अधिकारियों, नाविकों और वायुसैनिकों की कमी है. उन्होंने यह भी कहा कि मौजूदा कमी सेना की कुल क्षमता का बहुत कम है.

रक्षा राज्यमंत्री ने कहा, "सरकार ने सुरक्षा जवानों की कमी घटाने के लिए कई कदम उठाए हैं. इनमें प्रशिक्षण क्षमता में वृद्धि, निरंतर छवि निर्माण, स्कूलों में प्रेरक व्याख्यान, करियर संबंधी मेले और प्रदर्शनियों में भागीदारी और सशस्त्र सेनाओं में चुनौतीपूर्ण करियर का फायदा उठाने के प्रति युवाओं को जागरूक करने के लिए प्रचार अभियान शामिल हैं."

इससे पहले हाल में ही संसद में रखी गई नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक (CAG) की रिपोर्ट में बताया गया कि कोई युद्ध छिड़ने की स्थिति में सेना के पास महज 10 दिन के लिए ही पर्याप्त गोला-बारूद है. कैग की रिपोर्ट में कहा गया कुल 152 तरह के गोला-बारूद में से महज 20% यानी 31 का ही स्टॉक संतोषजनक पाया गया, जबकि 61 प्रकार के गोला बारूद का स्टॉक चिंताजनक रूप से कम पाया गया.

गौरतलब है कि भारतीय सेना में लगभग 14 लाख सक्रिय जवान हैं. ऐसे समय में जब आए दिन भारत का पड़ोसी देशों खासकर चीन और पाकिस्तान के साथ विवाद होता रहता है. उस समय देश में सैनिकों की कमी बड़ा खतरा बन सकता है.

First published: 29 July 2017, 10:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी