Home » इंडिया » Indian Army gets New American assault rifles in Kashmir Valley against terrorists
 

जम्मू-कश्मीर : भारतीय सेना को मिली अमेरिकन असॉल्ट राइफल, आतंकियों को देगी मुंहतोड़ जवाब

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 December 2019, 11:11 IST

Indian Army : भारतीय सेना को अमेरिकन असॉल्ट राइफल की पहली खेप मिल गई है. जो जम्मू-कश्मीर में आतंकियों और सीमा पार बैठे दुश्मन को मुंहतोड़ जवाब देगी. भारतीय सेना में आधुनिकीकरण प्रक्रिया के अंतर्गत 10 हजार सिग सउर राइफल के पहले बैच को शामिल कर लिया गया है. सेना को मिली इन राइफलों को जम्मू-कश्मीर में आतंकरोधी अभियान के तहत सेना के जवानों को दिया जाएगा.

बता दें कि भारत सरकार ने अपने अग्रिम पंक्ति के सैनिकों को अधिक सक्षम बंदूकों से लैस करने के लिए फास्ट ट्रैक प्रक्रियाओं के तहत 72,400 राइफलों के निर्माण का अमेरिका को ऑर्डर दिया है. अभी मिली राइफल्स को जम्मू-कश्मीर में तैनात भारतीय सेना के उत्तरी कमांड को सौंप दिया गया है. बता दें कि सेना की यह कमांड जम्मू-कश्मीर में आतंकरोधी अभियानों और सीमा पर पाकिस्तान की ओर से की जा रही नापाक हरकतों का मुंहतोड़ जवाब देगी.

भारतीय सेना में इस राइफल के शामिल होने से सेना की मारक क्षमता में बढ़ोतरी होगी. इस राइफल की सबसे बड़ी खूबी ये हैं कि ये नजदीक से मार करने और दूर से मार करने वाली रायफलों की श्रेणी की सबसे उन्नत तकनीक से लैस है. जो दुश्मन को पास और दूर हर जगह से घेर कर मारेगी.

भारत सरकार ने सेना को 72,400 नई असॉल्ट राइफलों से लैस करने के लिए 700 करोड़ रुपये से अधिक के अनुबंध पर हस्ताक्षर किए थे. इन राइफल्स की आपूर्ति अमेरिकी हथियार निर्माता सिग सउर द्वारा की जा रही है. अमेरिका इस ऑर्डर की बाकी बची सभी राइफलों को एक साल के भीतर भारतीय सेना को सौंप देगा. क्योंकि, इन रायफलों के लिए अनुबंध फास्ट-ट्रैक खरीद (FTP) के तहत किया गया है. पाकिस्तान और चीन से बढ़ते खतरों को देखते हुए भारतीय सेना को फास्ट-ट्रैक प्रक्रिया के तहत करना पड़ा है.

अमेरिका से मिलने वाली इन राइफलों में 66 हजार राइफलें भारतीय सेना के दी जाएंगी. जबकि दो हजार रायफलों को भारतीय नौसेना और चार हजार रायफलों को भारतीय वायु सेना को सौंपी जानी हैं. सिग सउर SIG716 7.62x51 मिमी असॉल्ट राइफलें भारत में निर्मित 5.56x45 मिमी इंसास राइफलों की जगह लेंगी. बता दें कि इंसास रायफलों को लेकर भारतीय सेना पहले ही शिकायत दर्ज करा चुकी है. क्योंकि इसकी फायरिंग क्षमता और मैगजीन के टूटने की बहुत शिकायतें आ रही हैं.

हैदराबाद एनकाउंटर पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, पुलिसवालों पर एफआईआर दर्ज करने की मांग

मिजोरम: वॉलीबॉल प्लेयर ने बीच मैच बच्चे को पिलाया दूध, सोशल मीडिया में धूम मचा रही फोटो

घर बैठे Aadhaar से ऐसे लिंक करें PAN, सिर्फ एक SMS भेजकर हो जाएं टेंशन फ्री

First published: 11 December 2019, 11:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी