Home » इंडिया » Indian Army is on high alert after tension between India and China at LAC in Ladakh
 

लद्दाख में LAC पर भारत-चीन के बीच तनाव बढ़ने के आसार , मुंहतोड़ जवाब देने को भारतीय सेना तैयार

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 September 2020, 7:57 IST

भारत और चीन के बीच एक बार फिर से तनाव की स्थिति पैदा हो गई है . दरअसल, पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेनाओं के बीच फिर से टकराव होने की घटाएँ बढ़ने लगी हैं , जिससे दोनों  देशों की ओर से किये गए अब तक के शांत प्रयासों पर पानी फिरता दिख नजर आ रहा है. जून में हुई  गलवान घाटी की हिंसा की घटना के बाद दोनों देशों के बीच टकराव टालने की कई बार कोशिश की गई जिसके लिए दोनों और से कई दौर की बैठकें हुई थी और तीन स्थानों पर टकराव खत्म भी हुआ लेकिन एक बार फिर से दोनों देशो की सेनाएं आमने सामने हैं. सेना ने अरुणाचल से लेकर लद्दाख तक पूरे क्षेत्र में सेना को हाई अलर्ट पर रखा है.

इस बीच उपग्रह से मिली कुछ तस्वीरों में लद्दाख में चीनी के क्षेत्र में हैलीपैड निर्माण की जानकारी मिली है. जिन्हे हल के दिनों में ही बनाया गया है. ऐसी  आशंका जताई जा रही है कि टकराव की आड़ में चीन लगातार वास्तविक नियंत्रण रेखा के निकट अपनी सैन्य तैयारियां बढ़ा रहा है. इससे टकराव बढ़ने की आशंका व्यक्त की गई है.


अनुपम खेर ने प्रशांत भूषण के लिए मजे, कहा- एक रुपया दाम लगाया सुप्रीम कोर्ट ने बंदे का...

सेना से जुड़े सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मौजूदा टकराव के लिए चीन का आक्रामक रुख जिम्मेदार है. पैंगोंग त्सो इलाके में चीन फिंगर-4 से हटकर फिंगर-5 में डट गया और उसने भारत के पीछे हटने की शर्त लगा दी थी. जबकि फिंगर-8 तक के समूचे इलाके पर पहले से ही भारत काबिज रहा है. ऐसी स्थितियों में मोटे तौर पर यथास्थिति कायम रखी जाती है, लेकिन 29 अगस्त की रात की घटना से स्पष्ट हो गया है कि चीन की ऐसी कोई मंशा नहीं है. और वो एक बार फिर से विवाद को जन्म देना चाहता है. 

कोरोना वायरस: सिर्फ 3 राज्यों महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में ही कोविड-19 के 43% मामले

सेना के सूत्रों का कहना है  कि  इस घटना के बाद हॉट स्प्रिंग, गोगरा, गलवान घाटी, डेप्सांस में फिर से पैनी निगाह रखी जा रही है. इन स्थानों पर चीनी सेना हालांकि अब काफी पीछे है, लेकिन पेंगोंग सो की घटना के बाद आशंका व्यक्त की जा रही है कि इन इलाकों में भी चीनी सेना फिर से घुसपैठ कर सकती है.

प्रणब मुखर्जी के निधन पर PM मोदी ने शेयर की भावुक कर देने वाली फोटो, हमेशा देते थे पिता का दर्जा

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक भारत ने पूरी न सीमा पर सतकर्ता बढ़ाई गई है. इसके साथ ही उत्तराखंड के संवेदनशील बार्डर पोस्ट पर भी आईटीबीपी और सेना को हाई अलर्ट पर रखा गया है. सूत्रों के मुताबिक इस घटना के बाद रविवार को ही पेंगोंस सो इलाके में तैनाती बढ़ाई गई है. सेना वहां किसी भी स्थिति से निपटने को तैयार है. तनाव को देखते हुए  सीमावर्ती क्षेत्रों में वायुसेना के सभी बेसों को भी सतर्क कर दिया गया है.

देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का निधन, PM मोदी और राष्ट्रपति कोविंद ने जताया दु:ख

First published: 1 September 2020, 7:57 IST
 
अगली कहानी