Home » इंडिया » Indian Army's new Brahmastra to defete Chinese Army
 

चीन से टक्कर लेने के लिए भारतीय सेना का नया ब्रम्हास्त्र, चित हो जाएगी चीनी सेना

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 December 2017, 20:01 IST

चीन से सटे डोकलाम में लंबे समय से गतिरोध कायम रहने के बाद चीनी सैनिकों को पटखनी देने के लिए भारतीय सेना एक नई रणनीति पर काम करने जा रही है. भारत-तिब्बत-भूटान सीमा पर चीनी सैनिकों की मौजूदगी से चिंतित भारतीय सेना ने सीमाओं की चौकसी के लिए पायलट प्रॉजेक्ट के तहत ऊंटों के जरिए पट्रोलिंग कराने की रणनीति बनाई है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ऊंटों को पेट्रोलिंग करने और भारी मात्रा में हथियार और अन्य सामग्री ले जाने के लिहाज से प्रशिक्षित किया जाएगा। यहां एक और दो कूबड़ वाले यानी दोनों तरह के ऊंटों का इस्तेमाल किया जाएगा। दो कूबड़ वाले ऊंट 180 से 220 किलोग्राम वजन ले जा सकेंगे।

आपको बता दें कि फिलहाल सेना इस काम के लिए खच्चरों या टट्टुओं का इस्तेमाल करती है, जो 40 किलोग्राम तक वजन ही ले जा सकते हैं। यही नहीं खच्चरों के मुकाबले ऊंटों की गति भी अधिक होगी।

patrika

गौरतलब है कि भारत में दो कूबड़ वाले ऊंट सिर्फ लद्दाख की नुब्रा घाटी में ही पाए जाते हैं। फिलहाल सेना को एक कूबड़ वाले 4 ऊंट मिले हैं।

यदि सेना का यह पायलट प्रॉजेक्ट सफल रहता है तो भारतीय सेना की ओर से 12,000 और 15,500 फुट की ऊंचाई वाले इलाकों में ऊंटों का इस्तेमाल किया जा सकता है। फिलहाल डीआरडीओ की लेह स्थित लैबोरेट्री डिफेंस इंस्टिट्यूट ऑफ हाई अल्टिट्यूड रिसर्च ने ऊंटों की भार उठाने की क्षमता को लेकर शोध करना शुरू कर दिया है।

बता दें कि भारतीय सेना की ओर से इसको अभी केवल पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर शुरू किया जाएगा. अगर यह सफल रहता है तो इसको व्यापक स्तर पर लागू किया जाएगा.

First published: 28 December 2017, 20:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी