Home » इंडिया » indian historians condemn move to ban of bhagat singh book
 

प्रमुख इतिहासकार: भगत सिंह सहित कई हैं ‘क्रांतिकारी आतंकवादी’

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 May 2016, 17:02 IST

रोमिला थापर, इरफान हबीब और अमर फारूकी जैसे विद्वानों का मानना है कि भगत सिंह को ‘क्रांतिकारी आतंकवादी’ लिखने की वजह से दिल्ली विश्वविद्यालय द्वारा एक पुस्तक की बिक्री पर रोक दुनिया के सामने भारतीय इतिहास की अज्ञानता को प्रदर्शित करने जैसा होगा. 

जबकि ऐतिहासिक तथ्यों के मुताबिक इन शहीदों ने स्वयं के लिए इस शब्द का प्रयोग सम्मानजनक माना था.

इस संबंध में इन प्रमुख इतिहासकारों ने एक संयुक्त वक्तव्य जारी करके कहा है कि वर्तमान परिदृश्य में साफ है कि हममें से कई अपने राष्ट्रीय नायकों भगत सिंह या चटगांव विद्रोही सूर्य सेन या इलाहाबाद के अल्फ्रेड पार्क में शहीद हुए चंद्रशेखर आजाद को आतंकवादी कहना पसंद नहीं करेंगे.

लेकिन अगर हम राष्ट्रवादी होने का दावा करते हैं तो हमें कम से कम अपने राष्ट्रीय आंदोलन के सच के बारे में थोड़ा जानना चाहिए और यह नहीं भूलना चाहिए कि एक वो भी समय था जब वास्तव में देश के लिए जान गंवा देने वाले लोग गर्व से ‘क्रांतिकारी आतंकवादी’ कहलाना पसंद करते थे.

संयुक्त वक्तव्य में कहा गया है कि 'इसलिए हमें पुस्तकों में बदलाव की या उन पर पूरी तरह पाबंदी की मांग नहीं करनी चाहिए और इस तरह से दुनिया के सामने अपनी ही अज्ञानता को नहीं प्रदर्शित करना चाहिए. पिछले कुछ दिनों में ऐसा लगता है कि कुछ कथित आधुनिक ‘राष्ट्रवादियों’ को अपनी देशभक्ति को प्रदर्शित करने के लिए विभाजनकारी या गैर-जरूरी मुद्दों को उठाने की आदत सी बन गई है.'

इस मामले में सफदर हाशमी मेमोरियल ट्रस्ट द्वारा जारी एक बयान में देश के प्रमुख इतिहासकारों और शिक्षाविदों समेत 102 गणमान्य लोगों ने हस्ताक्षर किये हैं.

इस बयान में कहा गया कि, 'दिल्ली विश्वविद्यालय द्वारा पुस्तक के अनुवाद को वापस ले लेने और टीवी कार्यक्रमों और अदालतों में लेखकों के पीछे पड़ जाने की अब जो शुरूआत हो गयी है, वह घृणित है और संघ तथा उसके अनेक मोर्चों के लोगों के द्वारा ऐसे अभियानों का यह एक चरित्र भी है.'

पाठ्य पुस्तक ‘इंडियाज स्ट्रगल फॉर इंडिपेंडेंस’ लगभग दो दशकों से दिल्ली विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रम में शामिल है. इसके अध्याय-20 में भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, सूर्य सेन और अन्य को ‘क्रांतिकारी आतंकवादी’ कहा गया है. जो वर्तमान समय में विवाद का विषय बना हुआ है.   

First published: 1 May 2016, 17:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी