Home » इंडिया » Indian railway gives reservation to women in AC trains, new App launch for women safety
 

रेलवे लाया महिलाओं के लिए ख़ास तोहफा, AC ट्रेन की सीटों में मिलेगा आरक्षण

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 December 2018, 8:04 IST

भारतीय रेलवे महिला यात्रियों की सुविधा के लिए एक नया नियम लाई है. अब से राजधानी, दुरांतो समेत सारी AC ट्रेनों में एसी 3-टीयर की 6 सीटों को महिलाओं के लिए आरक्षित रखा जाएगा. अभी तक भारतीय रेलवे ये आरक्षण वरिष्ठ नागरिकों, 45 साल से ज्यादा की उम्र की महिलाओं और गर्भवतिओं महिलाओं को प्रदान करता था. इसके तहत इस आरक्षित वर्ग को एसी 3-टीयर में हर बोगी में नीचे की चार बर्थ के संयुक्त आरक्षण प्राप्त हैं. अब महिला यात्रिओं को 6 अन्य सीटों पर ये आरक्षण दिया जाएगा.

गौरतलब है कि इसके पहले भी रेलवे हर मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों में महिला यात्रियों को स्लीपर क्लास की 6 बर्थ का आरक्षण देता है. इसके अलावा गरीब रथ एक्सप्रेस ट्रेन के 3 एसी में भी महिलाओं के लिए 6 सीटें भी आरक्षित होती हैं. बात अगर हर एक ट्रेन की करें तो अभी तक रेलवे के नियमावली की अनुसार हर ट्रेन के स्लीपर क्लास में वरिष्ठ नागरिकों, 45 वर्ष की आयु से अधिक उम्र वाली महिलाओं और गर्भवती महिलाओं के लिए स्लीपर क्लास की हर बोगी में नीचे की छह बर्थ आरक्षित होती हैं. इसके अलावा एसी3 तथा एसी2 टीयर क्लास में तीन बर्थ आरक्षित होती हैं. ये आरक्षण सामूहिक होता है.

महिलाओं को दिए गए इस आरक्षण के बारे में रेलवे बोर्ड द्वारा जारी एक नोटिफिकेशन में कहा गया है, ''यह निर्णय लिया गया है सभी राजधानी/दुरांतो/ पूरी तरह एयर कंडीशंड ट्रेनों के थर्ड एसी में छह बर्थ महिला यात्रियों की उम्र, अकेले यात्रा करने या महिलाओं के साथ समूह में यात्रा करने के आधार पर उनके लिए आरक्षित होनी चाहिए.'' 

ये भी पढ़ें-  चुनावों के पहले जनता को झटका, SBI का पैसा बचाने के लिए 5 राज्यों में महंगी होगी बिजली

महिलाओं की सुरक्षा के लिए होगा ऐप

इतना ही नहीं रेलवे महिला यात्रिओं की सुरक्षा की दृष्टि से जल्द ही एक ऐप शुरू करने वाला है. इस ऐप की मदद से महिलाओं को सिर्फ एक डाउनलोड करना होगा. इस ऐप में एक हेल्प ऑप्शन है. अगर यात्रा के दौरान कभी कोई दुर्व्यवहार की कोशिश करे तो महिला को केवल अपने ऐप पर हेल्प बटन दबाना होगा. इस ऐप के जरिए ऑटोमैटिक एक छोटा वीडियो बनकर पुलिस कंट्रोल रूम पहुंच जाएगा. इसी के साथ लोकेशन की जानकारी नजदीकी जीआरपी और आरपीएफ कंट्रोल रूम में एसएमएस के जरिए पहुंच जाएगी.

First published: 5 December 2018, 7:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी