Home » इंडिया » Indian Railway gives some right to all train passengers, know what are your rights as a traveller
 

भारतीय रेलवे सफर के दौरान हर रेल यात्री को देता है ये जरुरी अधिकार, जानें रेलवे के ये नियम

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 September 2018, 14:55 IST
(File Photo)

भारतीय रेलवे में यात्रा करने वाले रोजाना हज़ारों यात्रियों के सुरक्षित सफर की जिम्मेदारी भारतीय रेलवे की होती है. रेल यात्रा करने के दौरान भारतीय रेल हर यात्री को कुछ अधिकार देती है. मगर कई बार ऐसा देखा गया है कि यात्रियों को इन अधिकारों के बारे में पता ही नहीं होता. इस जानकारी के अभाव में कई बार यात्रिओं को काफी मुसीबत का सामना करना पड़ता है.

रेलवे हर रेल यात्री को कुछ अधिकार देती है. जिनमें से एक है मुफ्त फर्स्ट ऐड की सुविधा. इसी के साथ अगर आपके पास प्लेटफॉर्म टिकट है और आप यात्रा के लिए ट्रेन में चढ़ चुके हैं. और आपके पास गंतव्य तक का टिकट नहीं है तो आप टिकट चेकर के पास जाकर टिकट बनवा सकते हैं.

जिन यात्रिओं ने टिकट की बुकिंग की है और यात्रा की तारिख तक उनका टिकट कन्फर्म नहीं हुआ है तो रेलवे की तरफ से ये जिम्मेदारी TTE की है क़ वो यात्री को आधी सीट उपलब्ध कराए. रेलवे में यात्रा के दौरान TTE का यूनिफॉर्म में होना जरुरी है. रेलवे में अगर आपको गन्दगी दिखती है तो आप रेलवे से विजिटर बुक की मांग करके अपनी परेशानी और रेलवे की कमियों या खूबियों का जिक्र कर सकते हैं.

कुछ श्रेणी के लोगों को मिलती है ख़ास रियायत
रेलवे में अलग-अलग श्रेणियों के यात्रियों के लिए ख़ास रियायत का प्रावधान है. रोगी, व ट्रेन में सफर कर रहे यात्री कभी भी इसका लाभ ले सकते हैं. आप फर्स्ट एड बॉक्स रेलवे के किसी भी कर्मचारी से मंगवा सकते हैं. यह सुविधा निशुल्क है. वरिष्ठ नागरिक, पुरस्कार प्राप्तकर्ता, युद्ध शहीदों की विधवाएं, छात्र, युवा, किसान, कलाकार-खिलाड़ी और चिकित्सा व्यावसायी समेत रेलवे कई और श्रेणियों में रियायत देता है.

मुफ्त होती है फर्स्ट एड बॉक्स
हर ट्रेन में फर्स्ट एड बॉक्स की सुविधा निशुल्क होती है. सफर के दौरान आपको जरुरत हो तो आप कभी भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं. आप रेलवे के किसी भी कर्मचारी से इसे मंगवा सकते हैं.

First published: 30 September 2018, 14:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी