Home » इंडिया » Indian railway offering an option to senior citizens for not availing exemption in ticket price
 

वरिष्ठ नागरिकों के लिए रेलवे टिकट में छूट न लेने के विकल्प की 'पहल'

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 June 2016, 18:38 IST

गैस सब्सिडी छोड़ने की योजना 'पहल' के बाद केंद्र सरकार ने रेलवे यात्रियों के लिए भी एक पहल की है. इसके अंतर्गत भारतीय रेलवे में यात्रा करने वाले वरिष्ठ नागरिकों को आरक्षित टिकटों में मिलने वाली छूट छोड़ने का विकल्प दिया जा रहा है.

भारतीय रेलवे ने इसके साथ ही ट्रेन यात्रा पर होने वाले असली खर्च को टिकट पर ही प्रिंट करना चालू कर दिया है जिससे यात्रियों को यह जानकारी मिल सके कि रेलवे कितनी सब्सिडी देता है.

गौरतलब है कि बीते वित्त वर्ष में भारतीय रेलवे को सब्सिडी पर ही 1,600 करोड़ रुपये खर्च करने पड़े थे. इस रकम में वरिष्ठ नागरिकों, खेल पुरस्कार विजेताओं और कैंसर मरीजों समेत अन्य को मिलने वाली सब्सिडी शामिल है.

जब शहर-ए-दिल्ली में पहली बार गूंजी रेल इंजन की सीटी

मौजूदा वक्त में भारतीय रेलवे 55 वर्गीकरण के तहत आने वाले यात्रियों को टिकट की खरीद पर रियायत मुहैया कराता है. 

इस बाबत रेल मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि सब्सिडी पर सर्वाधिक खर्च वरिष्ठ नागरिकों की श्रेणी में होता हैै. बीते वर्ष केवल 1,100 करोड़ रुपये की सब्सिडी इस श्रेणी के अंतर्गत देनी पड़ी थी.

रेलवे द्वारा वरिष्ठ नागरिकों की श्रेणी के अंतर्गत महिला यात्रियों को 50 फीसदी और पुरुषों को 40 फीसदी की रियायत दी जाती है. वरिष्ठ नागरिकों के लिए रेलवे द्वारा न्यूनतम आयु महिलाओं के लिए 58 वर्ष जबकि पुरुषों के लिए 60 वर्ष निर्धारित की गई है.

भारतीय रेल की ये दुर्लभ तस्वीरें मदहोश कर देंगी

जहां पहले आरक्षित टिकट खरीदते वक्त उम्र भरने पर ही यात्रियों को सीधे छूट मिल जाती थी, अब रेलवे द्वारा उन्हें इस रियायत को छोड़ने का विकल्प दिया जाएगा. 

यानी अब जो बुजुर्ग यात्री बिना छूट लिए पूरा पैसा देकर रेलवे टिकट खरीदना चाहते हैं वे खरीद सकते हैं और जो रियायत लेना चाहते हैं, ले सकते हैं

First published: 26 June 2016, 18:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी