Home » इंडिया » indian railway take 43 percent subsidised fair charge
 

ट्रेन टिकट पर सब्सिडी का एहसास दिलाने में जुटा रेलवे

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 June 2016, 16:31 IST
(पत्रिका)

भारतीय रेलवे यात्रियों को सफर के लिए सब्सिडी देता है. इसे सभी यात्री नहीं जानते हैं. इसलिए अब भारतीय रेलवे यात्रियों को इस बात का एहसास दिलाने के लिए टिकटों पर कुछ लाइनें छाप रही है.

टिकट पर छपे इन लाइनों के माध्यम से रेलवे यात्रियों को यह बताने की कोशिश कर रहा है कि रेलवे उनकी यात्रा पर जितना खर्च उठा रहा है, उतनी कीमत यात्रियों से वसूल नहीं की जा रही है. 

अब यात्रियों को जो टिकट दिया जा रहा है, उस पर लिखा है कि सरकार उन्हें उस यात्रा पर कितनी सब्सिडी दे रही है.

वहीं रेलवे के इस एहसान बताने की कवायद से संशय हो गया है कि कहीं प्रधानमंत्री एलपीजी पर सब्सिडी छोडने की तर्ज पर कहीं रेलवे की सब्सिडी छोडने की अपील करने की तैयारी तो नहीं कर रहे हैं.

रेलवे की इस नई पहल को देखते हुए आगामी बजट में रेल किराए में बढोतरी की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है.

रेल मंत्रालय का दावा है कि रेल किराए का 43 फीसदी हिस्सा रेलवे उठा रहा है. असल में भारतीय रेल अब सभी यात्रियों को बता रही है कि आपकी सस्ती रेल यात्रा के पीछे भारतीय रेल कितना बडा हिस्सा उठा रही है.

टिकट पर 43 फीसदी सब्सिडी   

रेलवे टिकटों पर अब लिखा जा रहा है कि आईआर रिकवर्स ओनली 57 पर्सेंट ऑफ द कॉस्ट ऑफ ट्रेवल ऑन एवरेज. जबकि सब अर्बन टिकटों पर आईआर रिकवर्स ओनली 36 पर्सेंट ऑफ द कॉस्ट ऑफ ट्रेवल ऑन एन एवरेज लिखा जा रहा है.

रेलवे अपने आंकड़ों के हवाले से कह रहा है कि अगर आप दिल्ली से मुंबई तक राजधानी ट्रेन से सफर करते हैं, तो मौजूदा किराए के मुताबिक रेलवे फर्स्ट एसी का किराया 4755 रुपए लेती है, जो उसके कुल खर्चे का 57 फीसदी है.

इसका मतलब है कि रेलवे को इस यात्रा पर प्रति यात्री 7175 रुपये का खर्च बैठता है और इस हिसाब से रेलवे यात्री को करीब 3085 रुपए की सब्सिडी दे रहा है.

रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों का कहना है कि बढ़ती लागत और कम किराए से भारतीय रेल का ढांचा पूरी तरह से चरमरा रहा है. इस वजह से रेलवे को लगातार घाटा हो रहा है और अब ऐसे उपाय करने होंगे, जिससे रेलवे को फायदे में लाने के साथ ही सब्सिडी का बोझ कम किया जा सके.

First published: 23 June 2016, 16:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी