Home » इंडिया » Indian sikh passport disappears from pakistan High Commision, Pak denies from these
 

पाकिस्तान की साजिश या महज संजोग? करतारपुर जाने वाले भारतीय सिखों के पासपोर्ट हुए गायब

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 December 2018, 9:24 IST

पाकिस्तान से 23 भारतीय सिखों के पासपोर्ट गायब हो गए हैं. सुरक्षा के लिहाज से देखा जाए तो ये भारत के लिए बड़ा खतरा साबित हो सकता है. पाकिस्तान से गायब हुए ये पासपोर्ट उन भारतीय सिखों के हैं जो कि पाकिस्तान में स्थित गुरुद्वारे में धार्मिक यात्रा के लिये जाने वाले थे. इनमे से एक है करतारपुर साहिब, जिसके लिए पिछले महीने ही पाकिस्तान की तरफ से शांति का प्रयास बताते हुए पाकिस्तान-भारत में गलियारे का शिलान्यास किया गया था.

गौरतलब है कि ये मामला विदेश मंत्रालय के संज्ञान में तब आया जब इन सिक्खों में से कई ने पुलिस में पासपोर्ट गायब होने की शिकायत दर्ज कराई. मंत्रालय इन सभी पासपोर्ट्स को अब रद्द कर सकता है. इस मामले में पाकिस्तान के उच्चायोग को भी बताया जाएगा. गौरतलब है की पाकिस्तान ने धार्मिक यात्रा के आधार पर करीब 3,800 सिख तीर्थयात्रियों को वीजा दिया था. ये वीजा नवंबर माह में गुरु नानक की 549वीं जयंती पर पाकिस्तान ने जारी किये थे.

उन्हीं 3,800 सिख यात्रिओं में ये 23 सिख भी शामिल हैं जिनका पासपोर्ट गायब हुआ है. हैरानी की बात ये हैं कि पाकिस्तान इस मामले में अपने किसी भी अधिकारी को जिम्मेदार नहीं बता रहा है. ये बात पाकिस्तान के स्टैंड पर संशय पैदा करती है कि पाकिस्तान उच्चायोग से ही गायब हुए इन पासपोर्ट के मामले में पाकिस्तान ने पल्ला झाड़ लिया है.

गायब हुए ये सारे पासपोर्ट दिल्ली के एक एजेंट ने लिए थे. इस एजेंट का दावा है कि वो इन पासपोर्ट और अन्य दस्तावेजों को पाकिस्तानी उच्चायोग में जमा करवा चुका है.  पाकिस्तान की संदिग्ध गतिविधि की आशंका इस बात से भी लगाईं जा रही है कि उसने भारतीय एजेंट से भी पासपोर्ट पाकिस्तान में होने की बात से इंकार कर दिया.

ये भी पढ़ें- इस तरीके से पाकिस्तान भारत में भेजता है खूंखार आतंकी, छापेमारी में हुआ खुलासा

पाकिस्तान के इस रवैये पर एजेंट ने भारतीय अथॉरिटीज को इस बात की जानकार दी. एक आधिकारिक सूत्र ने इस मामले में बताया, ''यह एक गंभीर मुद्दा है और हम इन पासपोर्ट्स के बेजा इस्तेमाल को रोकने के लिए सभी जरूरी कदम उठाने में जुटे हैं.'' इस मसले के बाद से बीते महिले हुए करतारपुर कॉरिडोर को लेकर उठ रहे शंकापूर्ण सवालों को और मजबूत कर दिया है. इतना ही नहीं पहले भी पाकिस्तान में मौजूद सिख तीर्थ स्थलों पर खलिस्तान समर्थक पोस्टर्स देखे गए थे. ये सारी घटनाएं एक क्रम में देखने पर भारत की सुरक्षा के लिए चिंता बढ़ाने वाली हैं.

First published: 15 December 2018, 9:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी