Home » इंडिया » Indo-Japanese naval exercises in the Indian Ocean fiercely amidst a confrontation with China in Ladakh
 

लद्दाख में चीन के साथ टकराव के बीच हिंद महासागर में भारत-जापान की नौसेनाओं का जमकर अभ्यास

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 June 2020, 9:19 IST

भारत और चीन के बीच लद्दाख में चल रहे गतिरोध के बीच भारतीय नौसेना और जापानी समुद्री आत्मरक्षा बलों (JMSDF) ने हिंद महासागर में एक संयुक्त प्रशिक्षण अभ्यास किया. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार चीन इस अभ्यास पर नजर रख रहा है क्योंकि उसका दोनों देशों के साथ सीमा विवाद बढ़ता जा रहा है. शनिवार को संपन्न हुए इस अभ्यास को जापान के रक्षा मंत्री तारो कोनो की पहल पर आयोजित किया गया था. चीन के रक्षा मंत्री ने न केवल चीन की रक्षा क्षमताओं पर बल्कि भारत-प्रशांत क्षेत्र में उसकी मंशा पर चिंता व्यक्त की थी. पिछले कुछ महीनों में एशिया के कुछ हिस्सों में चीन की आक्रामकता के बाद जापान भी अब सतर्क दिखाई दे रहा है.

भारत-जापान रक्षा अभ्यास के मद्देनजर दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों के संगठन (आसियान) ने एक बयान में कहा कि दक्षिण चीन सागर विवाद को अंतरराष्ट्रीय कानून के अनुरूप हल किया जाना चाहिए जो गैर-सैन्यीकरण और आत्म-संयम के महत्व पर जोर देता है." हालांकि इस अभ्यास को लेकर अधिकारियों का कहना है कि यह भारत और जापान की नौसेनाओं के बीच आपसी समझ और विश्वास को बढ़ावा देने के लिए था. रक्षा साझेदारी को व्यापक बनाने के लिए दिल्ली और टोक्यो के प्रयासों के बाद पिछले तीन वर्षों के दौरान जेएमएसडीएफ और भारतीय नौसेना के बीच यह 15वां प्रशिक्षण अभ्यास था.


इस अभ्यास में चार युद्धपोत शामिल थे. इसमें भारतीय नौसेना के प्रशिक्षण पोत आईएनएस राणा और आईएनएस कुलुश और जापानी नौसेना के जेएस काशिमा और जेएस शिमायुकी शामिल किए गए थे. जापान हमेशा से भारत का सहयोगी रहा है और वह उन कुछ देशों में से एक था, जिन्होंने डोकलाम संकट के दौरान सार्वजनिक रूप से भारत का समर्थन किया था.

चौतरफा हो सकता है हमला, जापान ने भी चीन की तरफ मोड़ी अपनी खतरनाक मिसाइलें

नई दिल्ली और बीजिंग ने लद्दाख संकट को द्विपक्षीय रूप से नियंत्रित करने के लिए प्राथमिकता दी है. टोक्यो ने गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों की मौत पर संवेदना व्यक्त की है और चीनी हताहतों के बारे में कुछ नहीं कहा है. चीन से सीमा विवाद के कारण जापानी नौसेना ने हाल के वर्षों में खुद को उन्नत और विस्तारित किया है. जापान के पास दुनिया की सर्वश्रेष्ठ गैर-परमाणु पनडुब्बियों में से एक है और अत्याधुनिक पनडुब्बी रोधी तकनीक है.

LAC पर ख़त्म नहीं हो पा रहा तनाव, चीन ने पैंगोंग त्सो क्षेत्र में बनाया हेलीपैड : रिपोर्ट

First published: 29 June 2020, 9:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी