Home » इंडिया » Irani liead about Rohith Vemula death: Kejriwal
 

रोहित मामले पर झूठ बोल रही हैं स्मृति ईरानी : केजरीवाल

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 January 2016, 23:26 IST
QUICK PILL

हैदराबाद में दलित शोध छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या के मामले में अरविंद केजरीवाल विरोध कर रहे छात्रों से हैदराबाद यूनिवर्सिटी में जाकर मिले.

विरोध कर रहे छात्रों से मिलने के बाद केजरीवाल ने केंद्रीय मंत्री बंडारू दत्तात्रेय और मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी पर निशाना साधा है. 

पढ़ें : रोहित वेमुला की याद में एक 'मित्र' का पत्र

इस मामले से जुड़े खास बिंदु निम्न हैं:

  • छात्रों से बातचीत के दौरान केजरीवाल ने कहा की इस मामले में मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी इस मामले में एक के बाद एक कई तरह के झूठ बोल रही हैं. उन्होंने कहा कि स्मृति ईरानी रोहित की जाति को लेकर एक नया विवाद खड़ा करने की कोशिश कर रही हैं.
  • वहीं केंद्रीय मंत्री बंडारू दत्तात्रेय पर आरोप लगाते हुए केजरीवाल ने  कहा कि यह बेहद शर्मनाक है कि एक जिम्मेदार मंत्री ने तथ्यों को जाने बगैर अम्बेडकर छात्र संगठन को जातिवादी घोषित कर दिया. दत्तात्रेय ने संगठन के बारे में राष्ट्र-विरोधी, जातिवादी और कट्टरपंथ जैसे शब्दों का प्रयोग किया जो कि निहायत ही शर्मनाक है.

  • केजरीवाल ने कहा कि अम्बेडकर को जानने और समझने वाला कभी भी जातिवादी या राष्ट्र-विरोधी नहीं हो सकता.

  • रोहित की आत्महत्या पर दुःख जताते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि जब रोहित जैसे मेधावी छात्र इस तरह से आत्महत्या कर लें तो इस देश और समाज को शर्म आनी चाहिए.

  • छात्रों ने इस संबंध में अपनी मांग रखी है कि केंद्रीय मंत्री बंडारू दत्तात्रेय और यूनिवर्सिटी प्रशासन के खिलाफ कार्रवाई की जाए और जब तक ऐसा नहीं होगा हमारा प्रदर्शन जारी रहेगा.

  • उधर, एक और नई बात सामने आई है कि रोहित समेत अंबेडकर छात्र संगठन के उसके साथी छात्रों पर एबीवीपी के छात्र नेता सुशील कुमार के साथ मारपीट के आरोप लगे थे. लेकिन मेडिकल रिपोर्ट में डॉक्टरों ने सुशील कुमार के शरीर पर किसी भी चोट से इंकार किया है. इसमें एक और तथ्य जुड़ा है कि सुशील कुमार अपेंडिक्स के चलते हॉस्पिटल में भर्ती हुआ था, न कि किसी तरह के चोट के कारण.

  • केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी ने अपने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि इस मसले को सिर्फ राजनीतिक फायदे के लिए और जनता की भावनाओं को भड़काने के इरादे से 'दलित बनाम गैर दलित मुद्दा' बनाकर पेश किया जा रहा है। जबकि, यहां ऐसा कोई टकराव है ही नहीं.

पढ़ें : रोहित वेमुला की खुदकुशी पर बात करने के लिए भावुकता से बाहर निकलने की जरूरत है

पढ़ें : वीसी के पक्षपात ने रोहित को यह कदम उठाने पर मजबूर किया: डोनथा प्रशांत

पढें : रोहित खुदकुशी: शिक्षकों और छात्रों ने स्मृति ईरानी को झूठा कहा

First published: 21 January 2016, 23:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी