Home » इंडिया » Irom Sharmila: If voters reject me then I will marry
 

इरोम शर्मिला: नेता के रूप में जनता के नकारने पर ही करूंगी शादी

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 7:46 IST
(एएनआई)

मणिपुर में सशस्त्र बल विशेषाधिकार अधिनियम (आफ्स्पा) हटाने की मांग को लेकर 16 साल बाद अनशन तोड़ने वाली इरोम शर्मिला का कहना है कि अगर लोग उन्हें राजनेता के रूप में खारिज कर देंगे, तो वह शादी कर लेंगी.

शर्मिला ने मंगलवार को अपना अनशन तोड़ने का एलान करते हुए कहा था कि वह अगले साल मणिपुर में होने वाले विधानसभा चुनाव में उतरेंगी और शादी भी करेंगी.

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, शर्मिला ने बुधवार को कहा कि वह अपने निजी जीवन पर तब ध्यान देंगी, जब लोग उन्हें नेता के रूप में नकार देंगे. जिसके बाद जिंदगी का नया अध्याय शुरू करते हुए वह शादी कर लेंगी.

पढ़ें: 16 साल तक सत्ता को हिलाने वाली मणिपुर की 'आयरन लेडी' सीएम बनना चाहती हैं

इंफाल के जेएनआईएमएस अस्पताल में भर्ती इरोम शर्मिला ने बुधवार को हॉर्लिक्स के साथ सूप भी पिया. हालांकि उन्होंने अब तक ये साफ नहीं किया है कि वह अस्पताल से निकलकर कहां जाएंगी.

उनके मित्र देसमंद कोतिनहो उस वक्त कोर्ट में मौजूद नहीं थे जब मंगलवार को उन्हें बेल मिली थी. हालांकि शर्मिला ने चुनाव लड़ने के अलावा अपने विचारों से मेल खाते लोगों से जुड़ने की अपील भी की थी.

शर्मिला ने मंगलवार को कहा था कि उनका संघर्ष अभी खत्म नहीं हुआ है. हालांकि अब वो इसका तरीका बदल रही हैं. शर्मिला ने कहा था, "देश अच्छा है लेकिन समाज बुरा है. मैं मणिपुर की मुख्यमंत्री बनना चाहती हूं. मुझे शक्ति चाहिए. जिससे मैं आफ्सपा कानून को राज्य से हटा सकूं."

पढ़ें: 16 साल के तप का अंत, जानिए इरोम शर्मिला से जुड़ी कुछ खास बातें

First published: 11 August 2016, 11:32 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी