Home » इंडिया » Irrfan condemns Dhaka attack, questions silence of Muslim community
 

ढाका हमले पर बोले इरफान, क्या मुसलमान चुप बैठे रहें और मजहब को बदनाम होने दें?

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 July 2016, 12:39 IST

फिल्म अभिनेता इरफान खान ने ढाका आतंकी हमले की निंदा की है. रविवार को सोशल मीडिया साइट फेसबुक पर लिखे एक पोस्ट में उन्होंने मुसलमानों की चुप्पी पर सवाल उठाया है.

उन्होंने फेसबुक एक घायल पुलिसकर्मी की तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा, “बचपन में मजहब के बारे में कहा गया था कि आपका पड़ोसी भूखा हो तो आपको उसको शामिल किए बिना अकेले खाना नहीं खाना चाहिए. बांग्लादेश की खबर सुनकर अंदर अजीब वहशत का सन्नाटा है.”

उन्होंने आगे लिखा, "कुरान की आयतें ना जानने की वजह से रमजान के महीने में लोगाें का कत्‍ल कर दिया गया. हमला एक जगह होता है, बदनाम इस्‍लाम और पूरी दुनिया का मुसलमान होता है. वो इस्‍लाम जिसकी बुनियाद ही अमन, रहम और दूसरों का दर्द महसूस करना है. ऐसे में क्‍या मुसलमान चुप बैठा रहे और मजहब को बदनाम होने दे? या वो खुद इस्‍लाम के सही मायने को समझे और दूसरों को बताए कि जुल्‍म और कत्‍लोगारत करना इस्‍लाम नहीं है."

अपने पोस्ट की अाखिरी लाइन में इरफान ने लिखा कि ये उनका एक सवाल है. गौरतलब है कि बांग्लादेश की राजधानी ढाका के एक कैफे में शुक्रवार रात हुए आतंकवादी हमले में 20 विदेशी नागरिकों की मौत हो गई थी. सुरक्षाबलों के अभियान में छह आतंकवादी मारे गए और एक को जिंदा पकड़ा गया है.

मुझे मुल्लाओं से डर नहीं लगताः इरफान खान

हाल में ही इरफान अपनी टिप्पणी के चलते मुस्लिम धर्मगुरुओं और अन्य लोगों के निशाने पर रहे हैं. उनके जानवरों की कुर्बानी पर दिए एक बयान पर मुस्लिम धर्मगुरुओं ने आपत्ति जताई थी. मुस्मिल धर्मगुरुओं पर पलटवार करते हुए इरफान ने कहा था कि वो मुल्लाओं से नहीं डरते.

First published: 4 July 2016, 12:39 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी