Home » इंडिया » Is the 2000 rupee note going to stop? RBI says did not print new notes in 2019-20
 

क्या बंद होने वाला है 2000 रुपये का नोट? RBI ने बताया- 2019-20 में नहीं हुई नए नोट की छपाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 August 2020, 16:38 IST

2000 Rupees Note: भारतीय रिजर्व बैंक यानि RBI ने साल 2019-20 में 2,000 रुपये के नए नोटों की छपाई नहीं की है. RBI ने अपनी 2019-20 की वार्षिक रिपोर्ट में यह जानकारी दी है. RBI की रिपोर्ट के अनुसार, साल 2018 से 2020 के बीच यानि पिछले तीन सालों के दौरान 500 रुपये और 200 रुपये के नोटों के प्रसार में उल्लेखनीय इजाफा हुआ है.

रिपोर्ट में बताया गया कि मूल्य और मात्रा दोनों के हिसाब से 500 रुपये और 200 रुपये के नोट का प्रसार बढ़ा है. वहीं सत्र 2019-20 में 2000 रुपये के करेंसी नोट की छपाई का कोई ऑर्डर नहीं दिया गया. भारतीय रिजर्व बैंक नोट मुद्रण प्राइवेट लिमिटेड यानि BRBNMPL तथा सिक्योरिटी प्रिटिंग एंड मिंटिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड यानि SPMCIL ने पिछले साल 2000 रुपये के नोट की कोई नई आपूर्ति नहीं की.

कोरोना महामारी का काफी पड़ा प्रभाव

रिपोर्ट में बताया गया है कि साल 2019-20 में एक साल पहले की तुलना में बैंक नोटों के लिए ऑर्डर 13.1 फीसदी कम थे. वहीं साल 2019-20 में बैंक नोटों की आपूर्ति भी पिछले साल की तुलना में 23.3 फीसदी कम थी. इसकी मुख्य वजह कोरोना वायरस महामारी की वजह से देश में लागू लॉकडाउन को बताया गया.

रिपोर्ट में बताया गया कि साल 2019-20 में 500 के 1,463 करोड़ नोट की छपाई के ऑर्डर में से 1,200 करोड़ नोटों की आपूर्ति हुई. जबकि साल 2018-19 में 1,169 करोड़ नोटों की छपाई के ऑर्डर में से 1,147 करोड़ नोटों की आपूर्ति हुई थी. साल 2019-20 में BRBNMPL तथा SPMCIL को 100 के 330 करोड़ नोटों की छपाई का ऑर्डर दिया गया. वहीं 50 के 240 करोड़ नोटों तथा 200 के 205 करोड़ नोटों का ऑर्डर दिया गया.

2020 में काफी घट गई 2000 के नोटों की संख्या

रिजर्व बैंक की रिपोर्ट के अनुसार मार्च 2018 में 2000 के नोटों की संख्या देशभर में 33,632 लाख थी. जो मार्च 2019 तक घटकर 32,910 लाख हो गई. वहीं मार्च 2020 में 2000 के नोटों की संख्या काफी ज्यादा घटकर 27,398 लाख पर आ गई है. देश में चल रहीं कुल मुद्राओं में 2000 रुपये के नोट का हिस्सा मार्च 2020 में घटकर 2.4 फीसदी रह गया है.

रिपोर्ट में बताया गया कि मार्च 2019 में तीन फीसदी 2000 रुपये के नोट और मार्च 2018 में 3.3 फीसदी कुल करेंसी में से 2000 रुपये के नोट थे. रिपोर्ट के अनुसार, मूल्य के हिसाब से भी 2000 रुपये के नोटों की हिस्सेदारी घटी है. मार्च 2020 तक कुल नोटों के मूल्य में 2000 के नोट की हिस्सेदारी 22.6 फीसदी रह गई है. मार्च 2019 में यह 31.2 फीसदी तथा मार्च 2018 में यह 37.3 फीसदी था.

 Airtel ने दिए डेटा की कीमतों में जबरदस्त बढ़ोतरी के संकेत, मित्तल ने कहा- 160 रुपये में 1.6 GB डेटा खर्च करें

Gold Price Today : गोल्ड खरीदने का है मौका, कीमतों में बड़ी गिरावट, जानिए प्रमुख शहरों के दाम

First published: 25 August 2020, 16:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी