Home » इंडिया » Ishrat Jahan encounter case: DG Vanzara, NK Amin acquitted of all charges
 

इशरत जहां एनकाउंटर केस : CBI अदालत ने डीजी वंज़ारा और एनके अमीन को सभी आरोपों से किया बरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 May 2019, 12:51 IST

 

इशरत जहां मुठभेड़ केस में पूर्व पुलिस अधिकारियों डी. जी. वंजारा और एन के अमीन के खिलाफ कार्यवाही को रद्द करते हुए सीबीआई की एक विशेष अदालत ने गुरुवार को उन्हें सभी आरोपों से बरी कर दिया. अदालत ने 30 अप्रैल को उनके द्वारा दायर दो आवेदनों पर अपना फैसला सुरक्षित रखा था.

फैसले के बाद वंजारा का प्रतिनिधित्व करने वाले विनोद गज्जर ने कहा, "अदालत का आदेश यह स्थापित करता है कि मुठभेड़ वास्तविक थी." इसी साल 26 मार्च को दायर अपनी याचिकाओं में सेवानिवृत्त अधिकारियों ने मांग की थी कि उन्हें "इस मामले से तुरंत मुक्त किया जाए.

 

गुजरात सरकार द्वारा सीबीआई को मुकदमा चलाने की मंजूरी से मना करने के बाद याचिका दायर की गई थी. सीआरपीसी की धारा 197 के तहत सरकारी ड्यूटी के हिस्से के रूप में किए गए अधिनियम के लिए लोक सेवक के खिलाफ मुकदमा चलाने के लिए सरकार की मंजूरी आवश्यक है.

इशरत जहां, 19, और तीन अन्य - जावेद शेख उर्फ प्राणेश पिल्लई, अमजदअली अकबअली राणा और जीशान जौहर - को गुजरात पुलिस ने 15 जून, 2004 को अहमदाबाद के बाहरी इलाके में एक कथित फर्जी मुठभेड़ में मार दिया था. पुलिस ने दावा किया था कि उनके आतंकवादियों के साथ संबंध थे.

भारत का वह डोजियर जिसने मसूद अज़हर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने पर UN को किया मजबूर

First published: 2 May 2019, 12:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी