Home » इंडिया » ISRO hopes again with Chandrayaan 2, new twist after NASA's picture
 

Chandrayaan 2 को लेकर फिर जाग सकती है इसरो की उम्मीद, NASA की तस्वीर के बाद आया नया मोड़

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 August 2020, 10:57 IST

ISRO hopes again with Chandrayaan 2: इसरो अपने चंद्रयान मिशन 2 को लेकर एक बार फिर से उत्साहित है. इस बार इसरो को नासा की कुछ तस्वीरों से उम्मीद जागी है कि चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग के दौरान क्रैश हो चुका लैंडर विक्रम अभी भी काम कर रहा है. सॉफ्ट लैंडिंग के फेल होने के दस महीने बाद नासा की ताजा तस्वीरों ने इसरो की उम्मीदों को फिर से बल दिया है. दरअसल, नासा की तस्वीरों का इस्तेमाल कर विक्रम के मलबे की पहचान करने वाले चेन्नई के वैज्ञानिक शनमुग सुब्रमण्यन ने भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी को ईमेल भेजा है. जिसमें उन्होंने दावा किया है कि मई में नासा द्वारा भेजी गई नई तस्वीरों से प्रज्ञान के कुछ मीटर आगे बढ़ने के संकेत मिले हैं.

इसरो प्रमुख डॉ. के. सिवन ने भी इसकी पुष्टि करते हुए कहा है कि हालांकि हमें इस बारे में नासा से कोई जानकारी नहीं मिली है, लेकिन जिस व्यक्ति ने विक्रम के मलबे की पहचान की थी, उसने इस बारे में हमें ईमेल किया है. हमारे विशेषज्ञ इस मामले को देख रहे हैं. अभी हम इस बारे में कुछ नहीं कह सकते. बता दें कि चेन्नई के वैज्ञानिक शनमुग ने बताया है कि 4 जनवरी की तस्वीर से लगता है कि प्रज्ञान अखंड बचा हुआ है और यह लैंडर से कुछ मीटर आगे भी बढ़ा है. हमें यह जानने की जरूरत है कि रोवर कैसे सक्रिय हुआ और उम्मीद करता हूं कि इसरो इसकी पुष्टि जल्दी करेगा.


बता दें कि इसरो ने पिछले साल 22 जुलाई को अपना महत्वाकांक्षी चंद्रयान-2 मिशन लॉन्च किया था. इस मिशन के तहत रोवर विक्रम को चांद के दक्षिणी ध्रुव पर सॉफ्ट लैंडिंग करनी थी. बता दें कि चंद्रमा का दक्षिणी ध्रुव पर अंधेरा रहता है. हालांकि, इसका लैंडर विक्रम उम्मीद के मुताबिक आराम से चांद की सतह पर लैंड नहीं कर सका और धरती से इसका संपर्क टूट गया.

रक्षाबंधन पर महिलाओं को योगी सरकार का तोहफा, मुफ्त यात्रा कराएंगी रोडवेज बसें

रक्षाबंधन पर भूलकर भी न बांधें इस समय राखी, रावण की बहन ने बांधी थी हो गया था उसका विनाश

बाद में अमेरिका की स्पेस एजेंसी NASA की तस्वीरों को देखकर चैन्नई के इंजीनियर शानमुगा सिब्रमण्यन ने लैंडर विक्रम को चांद की सतह पर खोज निकाला. उन तस्वीरों में जो दिखा उसे विक्रम का मलबा माना गया. हालांकि, LRO की ताजा तस्वीरों में शान ने ही फिर पता लगाया है कि भले ही विक्रम की लैंडिंग मनमाफिक न हुई हो, लेकिन मुमकिन है कि चंद्रयान-2 के रोवर प्रज्ञान ने एकदम सही-सलामत चांद की सतह पर कदम रखा था.

कोरोना वायरस: उत्तर प्रदेश की कैबिनेट मंत्री कमला रानी का निधन, PGI में चल रहा था इलाज

First published: 2 August 2020, 10:57 IST
 
अगली कहानी