Home » इंडिया » isro launch indias first reusable vehicle
 

इसरो ने बनाया इतिहास, पहला भारतीय स्पेस शटल लॉन्च

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:50 IST
(एएनआई)

भारत ने सोमवार को अंतरिक्ष की दुनिया में एक नया कीर्तिमान स्थापित किया. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने दोबारा इस्तेमाल होने वाले स्वदेशी स्पेस शटल को सफलतापूर्वक लॉन्च किया.

सुबह के करीब सात बजकर पांच मिनट पर इस खास प्रक्षेपण यान (आरएलवी) को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा अंतरिक्ष केंद्र से प्रक्षेपित किया गया.

6.5 मीटर लंबे 'विमान' जैसे दिखने वाले यान का वजन 1.75 टन है. आरएलवी-टीडी  का मुख्य लक्ष्य पृथ्वी की कक्षा में सैटेलाइट को पहुंचाना और फिर वायुमंडल में लौट आना है.

इसे दोबारा प्रयोग में लाए जाने वाले रॉकेट के विकास की दिशा में बतौर प्रारंभिक कदम बताया जा रहा है.

यह स्पेस शटल रियूजेबल लॉन्च व्हीकल-टेक्नोलॉजी डिमॉन्स्ट्रेटर आरएलवी-टीडी से लॉन्च होगा.

लॉन्च व्हीकल स्पेस शटल को पृथ्वी की कक्षा में स्थापित कर एक एयरक्राफ्ट की तरह वापस पृथ्वी पर लौट आएगा और इसे दोबारा इस्तेमाल किया जा सकेगा.

इस मामले में इसरो के वैज्ञानिकों का मानना है कि रियूजेबल लॉन्च व्हीकल की मदद से इस इस तरह के अभियान में लगने वाले कुल खर्च का 10 गुना तक कम किया जा सकेगा.

रियूजेबल टेक्नोलॉजी की मदद से स्पेस में भेजे जाने वाले पेलोड की कीमत में 2000 डॉलर/किलो (1.32 लाख/किलो) तक कमी आएगी.

इस व्हीकल के एडवान्स्ड वर्जन को स्पेस के मैन्ड मिशन में यूज किया जा सकेगा.अभी तक स्पेस शटल भेजने वाले देश अमेरिका के लॉन्च व्हीकल का इस्तेमाल करते रहे हैं.

इसरो ने इस स्पेस शटल के लिए 15 साल पहले सोचा था. लेकिन इस पर काम 5 साल पहले ही शुरू कर दिया है.

First published: 23 May 2016, 11:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी