Home » इंडिया » ISRO thanks all for standing by it in Chandrayaan 2 mission while lander vikran connectivity loose
 

Chandrayaan 2: विक्रम लैंडर से संपर्क टूटने के बाद साथ देने वालों के बारे में इसरो ने कही ये बड़ी बात

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 September 2019, 12:12 IST
(Twitter/ISRO)

इसरो के महत्वाकांक्षी चंद्र मिशन चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम का 6-7 सितंबर को चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग के दौरान इसरो से संपर्क टूट गया. इसके बाद दुनियाभर ने भारत के इस अहम कदम की सराहना और समर्थन मिला. अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने भी इसरो को इसमें मदद पेशकश की थी.

अब भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो ने उसे समर्थन देने के लिए पूरी दुनिया का शुक्रिया अदा कि है. इसरो ने मंगलवार रात एक ट्वीट कर कहा, साथ खड़े होने के लिए आप सभी का शुक्रिया. हम दुनियाभर में मौजूद भारतीयों की उम्मीद और सपनों के बल पर आगे बढ़ना जारी रखेंगे.” इस पोस्ट के साथ इसरो ने एक फोटो भी शेयर किया. जिसमें चांद के सामने एक व्यक्ति एक चट्टान से दूसरी ऊंची चट्टान पर छलांग लगाता नजर आ रहा है.

बता दें कि विक्रम से संपर्क के लिए इसरो के पास अब केवल 3 दिन ही बाकी बचे हैं. ऐसे में इसरो लगातार कोशिश कर रहा है कि वह लैंडर विक्रम से संपर्क स्थापित कर ले, लेकिन इसरो की तमाम कोशिशें सफल नहीं हो पा रही हैं. गौरतलब है कि लैंडर विक्रम से 20-21 सितंबर को चंद्रमा पर रात होते ही उससे दोबारा संपर्क साधने की उम्मीद लगभग खत्म हो जाएगी.

इसरो ने ये ट्वीट चंद्रयान-2 की चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग की कोशिश के 11 दिन बाद किया है. 6-7 सितंबर को चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम की चांद पर हार्ड लैंडिंग हुई थी. तब लैंडर विक्रम चंद्रमा की सतह से कुछ मीटर ही दूर था. उसी दौरान उसका इसरो से संपर्क टूट गया. इसरो के अधिकारियों की तरफ से कहा गया था कि लैंडिंग के दौरान विक्रम गिरकर तिरछा हो गया है, लेकिन टूटा नहीं है. वह सिंगल पीस में है और उससे संपर्क साधने की पूरी कोशिशें जारी हैं.

बता दें कि इसरो का ये मिशन पूरी तरह से विफल नहीं हुआ है. क्योंकि चंद्रयान का ऑर्बिट अभी भी काम कर रहा है जो एक साल तक काम करता रहेगा. इसका वजन 2,379 किलोग्राम है. बता दें कि इसे लेकर जाने वाले रॉकेट की परफॉर्मेंस की वजह से इसमें मौजूद अतिरिक्त फ्यूल सुरक्षित है. ऐसे में ऑर्बिटर की लाइफ बढ़कर 7 साल हो गई है.

सरकार से मोटी रकम लेने वाले NGO और संगठन को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने दिया ये आदेश

First published: 18 September 2019, 12:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी