Home » इंडिया » IT sector, Students, campus selection, TCS, low, tata consultancy, job, IT secter
 

जानिए क्यों IT सेक्टर में नौकरी के लिए कम हो रहा है छात्रों का कैंपस सेलेक्शन

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 January 2018, 16:11 IST

आईटी सेक्टर में युवाओं को नौकरी का सपना दिखाने वाली देश की दिग्गज आईटी कंपनी टाटा कंसल्टंसी सर्विसेज (टीसीएस) में अब नौकरियों के मौके कम होते जा रहे हैं. इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट की माने तो वर्तमान वित्त वर्ष के नौ महीनों टीसीएस मात्र 3,657 क्रिएट कर पायी है. चौकाने वाली बात यह है कि यह संख्या पिछले वित्त वर्ष के मुकाबले 85 फीसदी कम है. पिछले वित्त वर्ष में कंपनी ने 24,654 नौकरियां दी थी. 

आईटी सेक्टर के जानकारों का कहना है कि इसके पीछे बड़ा कारण ऑटोमेशन का बढ़ता चलन है. रिपोर्ट की माने तो टीसीएस के ह्यूमन रिसॉर्सेज के ग्लोबल चीफ अजय मुखर्जी का कहना है कि ''एक साल पहले हम अडवांस कपिसिटी बिल्डिंग कर रहे थे. टीसीएस ने इस दौरान 40,000 से ज्यादा युवाओं के कैंपस सिलेक्शन कर रहे थे. कंपनी ने अपने वर्कफोर्स में 78,912 लोगों को जोड़ा. यानी कंपनी ने 33,000 से 34,000 अतिरिक्त नौकरियां दीं.''

 

क्यों जा रही हैं आईटी सेक्टर में नौकरियां 

गौरतलब है कि देश में आईटी सेक्टर में नौकरियां लगातार कम होती जा रही हैं. बीते वित्त वर्ष में छह इंडियन आईटी कंपनियों ने अपने 13,402 कर्मचारियों को ऑटोमेशन के कारण कम किया. हालाँकि आईटी कंपनियों ने इसे लिए मंदी को भी जिम्मेदार ठहराया.

बीते दिनों आईटी सेक्टर की दिग्गज कंपनियों के रेवेन्यू ग्रोथ में भी जोरदार गिरावट आयी है. इंडस्ट्री बॉडी फिक्की और नैसकॉम की तरफ से ईवाई ने एक सर्वे किया.

सर्वे में कहा गया था कि डिजिटाइजेशन से जॉब मार्केट में बड़े बदलाव होंगे और 4 साल में 65 फीसदी रोजगार पर असर पड़ेगा. साल 2022 तक 65 फीसदी रोजगार पूरी तरह बदल जाएंगे और 20 फीसदी मौजूदा नौकरियां खत्म हो जाएंगी.

First published: 12 January 2018, 16:11 IST
 
अगली कहानी