Home » इंडिया » J& K: Separatist groups extended strike call for two more days, curfew imposed in many parts of valley
 

कश्मीर हिंसा: पीएम आवास पर अहम बैठक, अलगाववादियों ने दो दिन बढ़ाया बंद

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 July 2016, 11:24 IST
(एजेंसी)

कश्मीर घाटी में अलगाववादियों ने दो दिन के लिए बंद की मियाद बढ़ा दी है. दूसरी तरफ शुक्रवार से जारी हिंसा में मरने वालों की तादाद 30 हो गई है.

अब तक 1300 से ज्यादा लोग घायल हो चुके हैं. हिजबुल मुजाहिदीन कमांडर बुरहान वानी की मौत के बाद हिंसक विरोध प्रदर्शन का दौर चल रहा है. लगातार पांचवें दिन भी राज्य में हालात तनावपूर्ण हैं.

पूरे राज्य में सैकड़ों हिंसा की घटनाएं अब तक सामने आ चुकी हैं. घाटी के सभी 10 जिलों में कर्फ्यू जारी है. इसके अलावा सीआरपीएफ की आठ और कंपनियों (800 जवान) को राज्य में तैनात किया गया है. घायलों में 200 से ज्यादा सुरक्षाकर्मी बताए जा रहे हैं.

पढ़ें: जम्मू कश्मीर: इस बार की गर्मियां बहुत खूनी हो सकती है, अब तक 30 मौतें

श्रीनगर के 11 थाना इलाकों में भी कर्फ्यू जारी है. सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ है. सुरक्षाकर्मी लगातार गश्त कर रहे हैं.

इस बीच अलगाववादी संगठनों ने दो और दिन के लिए घाटी में बंद की मियाद बढ़ा दी है. बुरहान वानी के एनकाउंटर में मारे जाने के बाद हुर्रियत कॉन्फ्रेंस समेत कई संगठनों ने बंद की अपील की थी.

अमरनाथ यात्रियों का नया जत्था रवाना नहीं 

इस बीच सोमवार को तीन दिन से रुकी अमरनाथ यात्रा तो शुरू हो गई, लेकिन बावजूद इसके श्रद्धालुओं का नया जत्था मंगलवार को जम्मू से रवाना नहीं किया गया है. वहीं जो यात्री बालटाल और पहलगाम में फंसे थे उन्हें कड़ी सुरक्षा के बीच जम्मू वापस लाया जा रहा है.

हालांकि जम्मू से श्रीनगर के बीच ट्रकों की आवा-जाही शुरू कर दी गई है. जिससे जरूरी सामान जैसे पेट्रोल, डीजल, खाने-पीने की चीजें और सब्जियां लोगों तक पहुंचाई जा सकें. 

सीमित बल प्रयोग के निर्देश

सूत्रों के मुताबिक इससे पहले सोमवार को गृह मंत्रालय में हुई उच्च स्तरीय बैठक में ये तय किया गया है कि घाटी में प्रदर्शनकारियों पर हथियारों का इस्तेमाल कम से कम किया जाएगा. 

पढ़ें: कश्मीर हिंसा: बैकफुट पर पाकिस्तान, अमेरिका ने बताया भारत का आंतरिक मामला

हालात को काबू में करने के लिए केंद्रीय बल जम्मू-कश्मीर पुलिस के साथ मिलकर काम करेंगे. इसके साथ ही सेना के कमांडर्स अपनी फौज के साथ मौके पर मौजूद रहेंगे. एहतियात के तौर पर सीआरपीएफ की 21 कंपनियां किसी भी वक्त कार्रवाई के लिए तैयार रखी जाएंगी.

पीएम आवास पर अहम बैठक जारी

इस बीच जम्मू-कश्मीर में हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने के बाद भड़की हिंसा पर पीएम नरेंद्र मोदी अपने आवास सात रेस कोर्स रोड पर समीक्षा बैठक कर रहे हैं. पीएम मोदी आज ही चार देशों की यात्रा से लौटे हैं.

उच्च स्तरीय बैठक सुबह 10 बजे शुरू हुई. बैठक में पीएम मोदी को बुरहान वानी के मारे जाने के बाद कश्मीर घाटी में पैदा हुए हालात का ब्यौरा दिया जा रहा है. 

पढ़ें: कश्मीर घाटी के हालात को देखते हुए गृह मंत्री राजनाथ सिंह का अमेरिका दौरा रद्द

राजनाथ, पर्रिकर और सुषमा शामिल

पीएम मोदी की हाई लेवल मीटिंग में गृह मंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और वित्त मंत्री अरुण जेटली के साथ ही एनएसए अजित डोभाल मौजूद हैं.

इसके अलावा सेना, इंटेलिजेंस ब्यूरो और रॉ के आला अफसर भी इस अहम बैठक में हिस्सा ले रहे हैं. साथ ही इस उच्च स्तरीय बैठक में कश्मीर हिंसा पर पाकिस्तान की ओर से सामने आए प्रोपेगैंडा के बारे में भी चर्चा हो रही है.

पाकिस्तान के पीएम नवाज शरीफ ने हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी को कश्मीरी नेता बताते हुए उसकी मौत पर हैरानी जताई थी. वहीं आतंकी हाफिज सईद और हिजबुल मुजाहिदीन के प्रमुख सैयद सलाउद्दीन ने पीओके में एक शोकसभा के दौरान बुरहान वानी को शहीद बताया था.

राजनाथ का अमेरिका दौरा रद्द

जम्मू-कश्मीर के हालात को देखते हुए केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने अपना अमेरिका दौरा रद्द कर दिया है. उनका अमेरिका दौरा 17 जुलाई से प्रस्तावित था.

18 जुलाई से संसद का मानसून सत्र  शुरू हो रहा है. ऐसे में विपक्ष के सवालों का जवाब देने के लिए राजनाथ का मौजूद होना जरूरी है, लिहाजा उनका दौरा रद्द करने का फैसला हुआ है.

पढ़ें: बुरहान वानी की मौत कश्मीर घाटी में आतंक का अंत नहीं बल्कि नए दौर की शुरुआत हो सकती है

राजनाथ सिंह ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला से बात करके घाटी में शांति प्रयासों के लिए आगे आने की अपील की थी.

इस बीच दिल्ली में मुस्लिम समुदाय के इमामों के प्रतिनिधिमंडल ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात करके जम्मू-कश्मीर के हालात पर चर्चा की.

First published: 12 July 2016, 11:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी