Home » इंडिया » Jagannath Rath Yatra starts from today home minister Amit Shah and his wife sonal shah offers prayers at Lord Jagannath temple in Ahmedabad
 

विश्वप्रसिद्ध जगन्नाथ रथयात्रा आज से शुरु, गृह मंत्री शाह ने अहमदाबाद में परिवार संग की मंगल आरती

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 July 2019, 9:11 IST

विश्व प्रसिद्ध पुरी की जगन्नाथ रथयात्रा आज से शुरु हो रही है. इसी के साथ भगवान जगन्नाथ के भक्त भगवान जगन्नाथ को पुरी में नगर भ्रमण कराएंगे. इसी के साथ केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी अहमदाबाद में भगवान जगन्नाथ के मंदिर में परिवार संग मंगल आरती की. अहमदाबाद में भी भगवान जगन्नाथ की 142वीं रथयात्रा आ से शुरु हो रही है. गृह मंत्री शाह आज सुबह तड़के भगवान जगन्नाथ के मंदिर पहुंचे जहां उन्होंने पत्नी संग मंगल आरती की.

हर साल ओड़ीशा राज्य के पुरी में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा बड़ी धूमधाम से निकाली जाती है. ये रथयात्रा आषाढ़ मास की शुक्ल द्वितीया तिथि को निकाली जाती है. इस रथ यात्रा में शामिल होने के लिए देश विदेश के हजारों श्रद्धालु पुरी पहुंचते हैं. इस रथयात्रा में तीनों मुख्य देवता, भगवान जगन्नाथ, उनके बड़े भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा अलग अलग तीन भव्य और सुसज्जित रथों पर विराजमान होकर नगर भ्रमण करते हैं.

रथयात्रा से ही भगवान जगन्नाथ, बलभद्रजी और देवी सुभद्रा रथ में विराजमान होकर जगन्नाथ मंदिर से जनकपुर स्थित गुंढ़ीचा मंदिर जाते हैं. ऐसी मान्यता है कि यह उनकी मौसी का घर है. इसके बाद दूसरे दिन रथ पर विराजमान भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा की मूर्तियों को विधि पूर्वक उतार कर मौसी के मंदिर यानि गुंढ़ीचा में लाया जाता है.

गुंडीचा मंदिर में भगवान जगन्नाथ के दर्शन को 'आड़प-दर्शन' कहा जाता है. यहां सात दिन विश्राम करने के बाद 8वें दिन आषाढ़ शुक्ल दशमी को सभी रथ पुन: मुख्य मंदिर की ओर चल देते हैं. रथों की वापसी की इस यात्रा की रस्म को बहुड़ा यात्रा कहा जाता है. रथयात्रा में शामिल इन रथों की सबसे खास बात ये होती है कि इनके निर्माण की किसी तरह की धातु का इस्तेमाल नहीं किया जाता. सभी रथों को तीन प्रकार की पवित्र और परिपक्व लकड़ियों से बनाए जाते हैं.

गुजरात के अहमदाबाद स्थित जगन्नाथ मंदिर में हर साल रथयात्रा निकाली जाती है. इस साल भी यहां 142वीं रथयात्रा निकाली जाएगी. जिसके लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. सुरक्षा के लिहाज से यहां 25 हजार से अधिक पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है.

इसके अलावा सीसीटीवी कैमरों और ड्रोन कैमरों से हर गतिविधि पर नजर रखी जा रही है. यह यात्रा 14 किलोमीटर का सफर तय करेगी. इसमें तीन रथ, 19 गजराज, 100 ट्रक, 30 मंडलियां और सात कारें शामिल होंगी. इस दौरान भगवान को 30,000 किलो मूंगदाल, 500 किलो जामुन, 300 किलो आम और 400 किलो ककडी और दाडम का प्रसाद चढाया जाएगा.

दिल्ली-कानपुर के बीच आज वंदे भारत एक्सप्रेस का ट्रायल, 4 घंटे में पूरा होगा सफर

First published: 4 July 2019, 9:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी