Home » इंडिया » Jaipur: 85 Cows died in a day in Hingonia cow shelter home
 

जयपुर: रविवार को हिंगोनिया गोशाला में 85 गायों की मौत, महामारी का खतरा मंडराया

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 August 2016, 13:42 IST
(पत्रिका)

जयपुर की हिंगोनिया गोशाला गायों की मरणशाला में तब्दील हो चुकी है. एक निजी समाचार चैनल की खबर के मुताबिक रविवार को भी गोशाला मेें 85 गायों की मौत हो गई.

डॉक्टरों-इंजीनियरों और अफसरों की भारी भरकम फौज के बावजूद रविवार को रिकॉर्ड संख्या में 85 गायों ने दम तोड़ दिया. समाचार चैनल ने गोशाला के अधिकारियों के हवाले से रिपोर्ट दी है कि अब तक राजस्थान में गोशाला के इतिहास में एक दिन में इतनी गायें कभी नहीं मरीं.

11 अगस्त को सीएम का दौरा

इस बीच मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के अल्टीमेटम देने और 11 अगस्त के गोशाला के दौरे को देखते हुए गोशाला को चमकाने में कोई कसर नही छोड़ी जा रही है.

पढ़ें: भूख से गायों की मौत: वसुंधरा के राज में गोशाला बनी मरणशाला

शनिवार को राजस्थान सरकार के मंत्रियों और अधिकारियों का काफिला गायों की सुध लेने हिंगोनिया गोशाला आया. इस दौरान दावा किया गया कि अब गायों की मौत का आंकड़ा घट जाएगा. लेकिन एक दिन बाद ही रविवार को यह आंकड़ा दोगुना हो गया.

जयपुर की हिंगोनिया गोशाला में 10 दिन के अंदर 500 गायों की मौत की बात सामने आई थी. (पत्रिका)

एक दिन में रिकॉर्ड मौतें

एक दिन के अंदर इस गोशाला में गायों के मरने का यह सबसे बड़ा आंकड़ा बताया जा रहा है. गोशाला में रविवार को 85 गायें मरीं, जिनमें 78 गायें और सात बछड़े थे.

अब भी करीब 40 गायें गंभीर हालत में हैं. डॉक्टरों का कहना है कि इतने दिनों तक दल-दल में भूखे-प्यासे रहने से इनकी स्थिति इतनी खराब हो गई थी कि इन्हें बचाया नही जा सकता था.

दो-तीन दिन में सबको मरना ही था. इन सभी को गोशाला के पीछे ही गाड़ा जा रहा है. वहीं डॉक्टरों का यह भी कहना है कि इतनी बड़ी संख्या में गायों के मरने से महामारी की भी आशंका है, जिसके लिए छिड़काव करवाया जा रहा है.

पढ़ें: जयपुर: गोशाला में गायों की मौत पर गरमाई सियासत, कांग्रेस ने निकाली गोरक्षा रैली

इस बीच देर से जागी सरकार बड़े स्तर पर हिंगोनिया गोशाला की तस्वीर बदलने में जुटी है. तीन दिनों से छुट्टी के बावजूद अधिकारी-कर्मचारी लगे हुए हैं. मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे 11 अगस्त को हिंगोनिया गोशाला का दौरा करेंगी.

सीएम राजे ने अधिकारियों को चार दिनों का अल्टीमेटम दिया है कि सुधार नहीं दिखा तो वे किसी को भी बख्शने वाली नहीं हैं.

जयपुर में त्रिवेणीनगर चौराहे पर कांग्रेस नेताओं ने गोशाला मुद्दे पर सदबुद्धि यज्ञ किया. (पत्रिका)

60 डॉक्टर और नर्सों की टीम तैनात

पानी निकासी के लिए गोशाला में 17 इंजीनियरों की तैनाती की गई है. इसके अलावा गायों के इलाज के लिए 60 डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ को भी तैनात किया गया है.

वहीं 16 जेसीबी मशीनें, 21 लोडर-डंपर, 28 ट्रैक्टर और 14 लेवलर मशीनें लगाई गई हैं. साथ ही मौके पर राजस्थान सरकार के स्वायत्त शासन विभाग के प्रमुख सचिव खुद ही कामकाज पर पैनी नजर बनाए हुए हैं.

इस बीच गायों की मौत के मामले में लगातार प्रदर्शन कर रही कांग्रेस अब जयपुर के कनौता थाने में राजस्थान सरकार के खिलाफ गोहत्या का मुकदमा दर्ज करवाने की तैयारी में है. शनिवार को कांग्रेस ने जयपुर में गोरक्षा रैली निकाली थी.

राजस्थान हाईकोर्ट की जयपुर बेंच ने इस मामले में सख्त टिप्पणी करते हुए अफसरों से 10 अगस्त तक रिपोर्ट तलब की है. वहीं अव्यवस्थाओं से गायों की मौत के मामले में गोशाला उपायुक्त शेर सिंह लुहाड़िया और प्रभारी आरके शर्मा को शनिवार को निलंबित कर दिया गया था.

हिंगोनिया में बदइंतजामी के मामले में गोशाला उपायुक्त और प्रभारी को सस्पेंड किया गया है. (पत्रिका)
First published: 8 August 2016, 13:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी