Home » इंडिया » Jaish commander Nisar Ahmed Tantray says he knew about the Pulwama Attack
 

पुलवामा हमले के बारे में जैश कमांडर निसार अहमद का खुलासा, बताया ये बड़ा राज

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 April 2019, 10:12 IST

संयुक्त अरब अमीरात से प्रत्यर्पण कर भारत लाए गए जैश-ए-मोहम्मद के कमांडर निसार अहमद ने पुलावामा हमले के बारे में सनसनी खुलासा किया है. जैश कमांडर निसार ने खुलासा किया है कि 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आत्मघाती कार बम विस्फोट के बारे में पता था.

उसने बताया कि उसे इस बारे में इसलिए जानकारी थी क्योंकि हमले के मुख्य साजिशकर्ता मुदस्सिर खान ने उसे इस हमले में शामिल होने के लिए बोला थाबता दें कि जैश कमांडर निसार अहमद तांत्रे को 31 मार्च को यूएई से प्रत्यर्पण कर भारत लाया गया हैनिसार का कहना है कि उसने पाकिस्तान में जैश के नेतृत्व के निर्देशों पर हमले की योजना बनाई गई थी.

जांच एजेंसी की पूछताछ के दौरान जैश कमांडर ने पहली बार इस बात की पुष्टि की है कि पुलवामा हमला संगठन के नेतृत्व के आदेश पर किया गया था. साथ ही खान वह व्यक्ति था जिसने इस हमले को अंजाम दिया था. बता दें कि निसार अहमद तांत्रे सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारे गए जैश नेता नूर अहमद तांत्रे का भाई है. निसार इसी साल फरवरी में भारत से फरार होकर यूएई पहुंच गया था.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इंटेलिजेंस ब्यूरो के एक अधिकारी ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि उसका कश्मीर घाटी में जैश कैडर्स पर महत्वपूर्ण प्रभाव है, खासकर जब उसने 30 दिसंबर 2017 को लेथपोरा में सीआरपीएफ कैंप पर हमले की योजना बनाई. निसार अहमद तांत्रे ने जांच एजेंसी को पूछताछ में बताया कि खान सोशल मीडिया एप के जरिए बात करता था और उसने उसे फरवरी के मध्य में पुलवामा में कहीं काफिले में विस्फोट करने की जानकारी दी थी.

File Photo

एनआईए के एक अधिकारी के मुताबिक खान ने तांत्रे से बम ब्लास्ट की योजना और उसे अंजाम देने के लिए मदद मांगी थी. तांत्रे घाटी में जैश का एक सीनियर कमांडर था और उसकी मौजूदगी से ऑपरेशन का हिस्सा लेने वाले आतंकी उसकी मौजूदगी से प्रेरित होते. हालांकि इस हमले में शामिल होने से तांत्रे ने इंकार कर दिया थाबता दें कि पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले में 40 से ज्यादा जवान शहीद हो गए थे.

भारतीय वायुसेना ने फिर किया पाक का झूठ बेनकाब, दिए F-16 को मार गिराने के सबूत

First published: 9 April 2019, 10:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी