Home » इंडिया » Jammu And Kashmir: 838 terrorists and 183 civilians killed in valley after Modi Govt form
 

मोदी सरकार में आतंकियों के आए बुरे दिन, 4 साल में सेना ने 838 को उतारा मौत के घाट

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 January 2019, 17:13 IST

साल 2014 में देश में मोदी सरकार बनने के बाद आतंकियों के बुरे दिन आ गए. पिछले चार साल में जम्मू-कश्मीर में 838 आतंकियों को भारतीय सेना ने मौत के घाट उतार दिया है. लोकसभा में मोदी सरकार की तरफ से मंगलवार को यह जानकारी दी गई.

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने लोकसभा में बताया कि साल 2014 में देश में मोदी सरकार बनने के बाद से अब तक जम्मू-कश्मीर में 838 आतंकी मारे गए हैं. उन्होंने यह भी बताया कि 183 नागरिकों की भी गोली-बारी की घटनाओं में मौत हुई है.

पढ़ें- नितिन गडकरी ने स्वीकारा- बदतर हालत की वजह से आत्महत्या करने को मजबूर है अन्नदाता

हंसराज अहीर ने जानकारी देते हुए बताया कि साल 2014 से 31 दिसंबर 2018 तक जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियों की 1,213 घटनाएं दर्ज की गईं. इन घटनाओं में 183 नागरिकों ने अपनी जिंदगी गंवाई. वहीं, 838 आतंकियों को सुरक्षाकर्मियों ने मौत के घाट उतारा. हंसराज अहीर ने यह बात एक लिखित सवाल के जवाब में बताई.

अहीर ने बताया कि इस दौरान देश के अलग-अलग हिस्सों में भी 6 आतंकी घटनाएं हुईं. इन घटनाओं में 11 आम नागरिकों ने अपनी जिंदगी गंवा दी. वहीं 7 आतंकी ढेर कर दिए गए. हालांकि मोदी सरकार आने के बाद पाकिस्तान द्वारा सीजफायर उल्लंघन की घटनाओं में रिकॉर्ड वृद्धि हुई.

पढ़ें- मोदी सरकार देने जा रही देश को बड़ी सौगात, बनाएगी देश का सबसे लंबा सिग्नल फ्री एक्सप्रेस-वे

एक आर्मी अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तान ने वर्ष 2018 में बीते 15 साल की तुलना में सबसे अधिक सीजफायर का उल्लंघन किया. इस दौरान सीजफायर उल्लंघन की 2,936 घटनाएं दर्ज की गई. यदि औसतन देखा जाए तो प्रतिदिन 8 घटनाएं सीजफायर की दर्ज की गईंं.

First published: 8 January 2019, 17:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी