Home » इंडिया » Jammu and Kashmir: Bjp minister Kuldeep Raj Gupta picks up stone on the police
 

जम्मू-कश्मीर: भाजपा के मंत्री ने पुलिस को मारने के लिए उठा लिया पत्थर

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 March 2018, 12:43 IST

आज के दौर में न नेता ना मंत्री किसी के पास धैर्य रह ही नहीं गया है. अपनी खीझ में वे किसी पर भी हमला कर सकते हैं. ऐसा ही एक वाक़या जम्मू-कश्मीर से आया है, जहां भाजपा के एक मंत्री ने पुलिस और अफसरों पर पत्थर उठा लिया.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, जम्मू-कश्मीर के वरिष्ठ बीजेपी नेता और महबूबा मुफ्ती सरकार में मंत्री कुलदीप राज गुप्ता ने रविवार 18 मार्च को पुलिस और अफसरों को मारने के लिए कथित रूप से पत्थर उठा लिया. घटना राजौरी शहर का है. बताया जा रहा है कि घटना तब हुई, जब अफसरों और पुलिस की टीम शहर में अतिक्रमण हटाओ अभियान के लिए आई थी.

राज्य में अतिक्रमण हटाओ अभियान खुद मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के आदेश पर शुरू किया गया है. महबूबा ने पिछले साल 23 दिसंबर को लोगों की लगातार शिकायतों के बाद अतिक्रमण हटवाने का वादा किया था. कहा जा रहा है कि अधिकारियों ने अतिक्रमण हटाने के फेर में कुलदीप राज गुप्ता के बेटे की दो दुकानों को तोड़ दिया.

इसके बाद मंत्री कुलदीप राज गुप्ता काफी गुस्से में आ गए. इसके बाद उन्होंने पत्थर उठाकर पुलिस और अधिकारियों को मारने के लिए दौड़े. कुलदीप राज गुप्ता जम्मू-कश्मीर एडवाइजरी बोर्ड फॉर डेवलपमेंट ऑफ पहाड़ी स्पीकिंग पीपुल के वाइस चेयरमैन भी हैं. जम्मू-कश्मीर सरकार में उन्हें राज्य मंत्री का दर्जा हासिल है.

रिपोर्ट्स के मुताबिक जब कुलदीप राज गुप्ता को अतिक्रमण हटाओ अभियान की जानकारी मिली तो वह घटनास्थल पर पहुंच गए और अधिकारियों के साथ बहस करने लगे. इस बीच अवैध निर्माण को ढहाने का काम जारी रहा. इस दौरान भड़के मंत्रीजी ने पत्थर उठा लिया और अधिकारियों को मारने के लिए दौड़ पड़े.

हालांकि, मंत्रीजी का कहना है कि उन्होंने पत्थर पुलिस पर हमला करने के लिए नहीं, बल्कि खुद को चोट पहुंचाने के लिए उठाया था. क्योंकि उनका काफी नुकसान हो गया था.

पढ़ें- 2003 में वाजपेयी सरकार के खिलाफ कांग्रेस लाई थी अविश्वास प्रस्ताव, मायावती ने दिया था BJP का साथ

गौरतलब है कि राजौरी निगम कमेटी ने अतिक्रमण हटाने के लिए जो सूची बनाई थी, उसमें मंत्री कुलदीप राज गुप्ता के बेटे विजय और धीरज की दो दुकानें भी थीं. राजौरी निगम प्रशासन ने कुल 73 अवैध निर्माण की लिस्ट बनाई थी. इनमें 24 दुकानें और 59 विस्तार शामिल थे.

अफसरों का कहना है कि इन निर्माण की वजह से राजौरी की एक व्यस्त सड़क पर ट्रैफिक बढ़ गई थी, साथ ही इससे जम्मू-कश्मीर प्रिवेंशन ऑफ रिबॉन डेवलपमेंट एक्ट का उल्लंघन हो रहा था.

First published: 19 March 2018, 12:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी