Home » इंडिया » jammu and kashmir: Mehbooba mufta appeals modi government to adopt vajpayee formula for better condition in kashmir
 

मुफ़्ती ने की मोदी सरकार से अपील, घाटी की शांति के लिए अपनाए वाजपेयी फार्मूला

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 May 2018, 10:03 IST

कश्मीर के बिगड़ते हालात और पत्थरबाजी की घटनाओं से फैली अशांति को लेकर मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने बड़ा बयान दिया है. पिछले दिनों पत्थरबाजों के बस को निशाना बनाये जाने और एक पर्यटक की मौत को लेकर मुफ़्ती आलोचनाओं का सामना कर रही हैं. घाटी में शांति स्थापित करने के लिए मुफ़्ती ने कहा कि हालात सुधारने हैं तो पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के फॉर्मूले को अपनाना चाहिए.

उन्होंने कहा कि ईद और अमरनाथ यात्रा को शांतिपूर्वक आयोजित किया जा सके उसके लिए बहुत जरुरी है कि पहले घाटी में हालात काबू में किये जाएं. मुफ़्ती ने सूबे की सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाई. इस बैठक में पीडीपी और बीजेपी के अलावा कांग्रेस समेत कई दलों ने हिस्सा लिया. गौरतलब है कि पिछली बार जून 2017 की सर्वदलीय बैठक का कांग्रेस ने बहिष्कार करके विरोध दर्शाया था.

ये भी पढ़ें- कर्नाटक वोटर ID कार्ड मामला: फ्लैट की मालकिन ने कहा - हमेशा दूंगी BJP का साथ

 

कश्मीर में पथरबाजी के कारण तमिलनाडु के 22 वर्षीय थिरूमणि की मौत के बाद यह बैठक बुलाई गई. कांग्रेस प्रदेशअध्यक्ष जीए मीर ने बताया कि हम लोगों ने मुख्यमंत्री मुफ्ती की ओर से बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में शामिल होने का निर्णय किया.

बैठक के बाद महबूबा मुफ्ती ने कहा, ''हम सभी इस बात पर सहमत हुए हैं कि हम केंद्र सरकार से अपील करेंगे कि वह सीमा पर सीजफायर के लिए अपनी तरफ से पहल करे. वर्ष 2000 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ऐसा कर चुके हैं. मुठभेड़ और झड़प से घाटी में आम जनता को दिक्कतें हो रही हैं. हमें ऐसा माहौल बनाना होगा कि ईद और अमरनाथ यात्रा दोनों शांतिपूर्वक संपन्न हो सकें.'' मुफ़्ती ने लोगों से अपील करी कि राज्य में बेहतर माहौल बनाये रखें.

ये भी पढ़ें- कर्नाटक चुनाव: राहुल गांधी ने ट्वीट कर बताया, आखिर क्यों येदियुरप्पा से आगे है सिद्धारमैया सरकार

First published: 10 May 2018, 8:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी